बहन ने भाई को चोदना सिखाया

सरिता जवान हो गई थी लेकिन उसके बाप की बेहाली और जुआरी होने के चलते उसके रिश्ते में अडचने आती थी. 18 साल की हुई तब से सरिता कभी से लंड के सपने देखने लगी थी लेकिन उसका यह सपना बस सपना ही बन के रह गया था. चोदना तो वह कब से चाहती थी लेकिन उसके नसीब की चुदाई शायद रूठी हुई सी थी. दिन, महीने, साल ना जाने कितना लम्बा इन्तेजार था.

आखिरकार सरिता तंग आ गई, कोलेज मैं तो उसे बॉयफ्रेंड वगेरह से चुदाई का डोज़ मिल जाता था साल में 5-6 बार लेकिन पिछले साल उसकी पढाई भी खत्म सी हो गई थी. सरिता चुदाई के लिए बेताब थी, उसे एक लंड चाहियें था जो उसकी चूत के अंदर की दीवारों को ठोके, वो होंठ चाहियें थे जो उसके चुंचे के उपर चुम्मी ले और वो हाथ चाहियें थे जो उसकी गांड को दबाये. सरिता की बेचेनी बढती गई और उसकी चूत चोदने को तरसती रही.

छोटे भाई बबलू के कमरे से पोर्न मैगजीन मिली

सरिता एक दिन अपने छोटे भाई बबलू के कमरे की सफाई कर रही थी, दिवाली आने वाली थी और उसे पुरे घर की सफाई करनी थी. बबलू कोलेज गया था. सरिता बबलू के बिस्तर को झटकने लगी और जैसे ही उसने गद्दे को हटाया उसकी आँखे खुली की खुली रह गई, गद्दे के निचे XXX मैगज़ीन थी जिसमे पहले पृष्ठ से ही चोदना चालू हो गया था. पूरी मैगज़ीन में चोदना ही चित्रण किया गया था और इसमें एक से एक गोरी चूत विभिन्न लौड़े लेते हुए दिखाई गई थी. सरिता की चूत का पानी निकलने लगा और उसे यह भी पता चल गया की बबलू का लंड भी अब 18 के उपर का हैं और फनफना रहा हैं. सरिता ने किताब वापस वहीँ रख दी. उस दीन सरिता ने बाथरूम में ही अपनी ऊँगली से चूत को शांत किया और उसने अब मनोमन बबलू से ही चुदवाने का फैसला कर लिया था.

बबलू को पकड़ लिया, इस बार किताब पढ़ते हुए

सरिता अब बबलू की हिलचाल पर नजर रखने लगी और वो जब भी बबलू रूम में होता तो चुपके से झाँक लेती थी. आखिर एक सन्डे की दोपहर और गर्मी के दिनों में उसने बबलू को चुपके से इस किताब के पन्ने फेरते देख ही लिया. उसने फट से दरवाजा खोला और अंदर आ गई. उसके आते बबलू का सब नशा उतर गया और उसने किताब को जल्दी गद्दे के निचे रख दी. सरिता ने आते ही कहा “ क्या कर रहा हैं तू बबलू “ “निकाल तो गद्दे के निचे तूने क्या रखा, बता मुझे”
“कुछ नहीं दीदी, मैंने आप आये इसलिए गद्दा सही कर रहा था”
“अच्छा” सरिता ने अपना हाथ गद्दे के निचे डाला और किताब निकाल दी. बबलू के मस्तक से पसीना छूटने लगा. सरिता ने जैसे की जिन्दगी में कभी लंड और चोदना देखा ही ना हो वैसे उसने मुहं के आगे आश्चर्य के भाव से हाथ रख दिया. “अबे बबलू, तू यह सब क्या देखता हैं, आई को बोल दूँ. तेरी टाँगे तोड़ देगी वो आज ही”
बबलू सहम गया था वोह कुछ नहीं बोल पा रहा था. सरिता ने बोलना चालू रखा, “बोल ना क्या देखता हैं तू इसमें और कहाँ से ले के आया.”
“दीदी में 18 का हो गया इसलिए मेरे दोस्तों ने दी हैं मुझे. वह कहेते हैं की मैं चोदना सिख जाऊं.”
“अच्छा तू चोदना सिख रहा था. चल बता मुझे क्या सिखा तूने.”
“दीदी आज तो ले के आया था मैं, अतुल और विकास ने दी हैं. आप किसी को कुछ मत बताना मैं उन्हें आज ही लौटा दूंगा.” बबलू जूठ बोल रहा हैं यह सरीता को पता था लेकिन वह भी तो नाटक ही कर रही थी. उसने बबलू का कान पकड़ा और बोली,
“तुझे चोदना सीखना हैं ना मैं सिखाती हूँ तुझे आज. जा पहले दरवाजा बंध कर के आ. आई उठ गई तो वोह मार डालेगी तुझे.” बबलू ने फट से दरवाजा बंध किया और वो दीदी सरिता के पास आ खड़ा हुआ. उसे लगा की सरिता उसे डांटेंगी लेकिन सरिता ने कुछ और ही कहा.

चल कपडे उतार बबलू, तुझे सही तरीके से समझाऊं

सरिता ने बबलू के आते ही उसे कहा “बबलू कपडे उतार अपने मैं तुझे सिखाती हूँ चोदना, तेरी दीदी के होते हुए तुझे यह गंदी आदते पालने की जरूरत नहीं हैं.” बबलू के पास कोई चारा भी तो नहीं था बेचारे के पास इसलिए उसने अपनी पेंट और शर्ट उतार दी, सरिता उसके पास आई और बोली, ”देख बबलू मैं तेरे लंड को अभी टच करुँगी और उसे अपने मुहं में लेके चुसुंगी. तेरी उत्तेजना जब एकदम बढ़ जाए मुझे बोल देना मैं तुझे आगे का चोदना बताउंगी” सरिता सच में बबलू की चड्डी उतार के उसका 7 इन्चा लंबा लंड अपने हाथ में ले के सहलाने लगी. बबलू का लंड धीमे धीमे बढ़ रहा था और थोड़ी देर में तो उसकी लम्बाई 8 इंच से भी ज्यादा बढ़ चुकी थी. बबलू का लंड अब सरिता ने सीधे अपने मुहं में ले लिया. वोह बबलू से आँखे मिलाए हुए ही उसका देसी लंड चूस रही थी. सरिता अपने हाथ अपने भाई के गोलों पर घुमा रही थी और उसका छोटा भाई दीदी का यह स्वरूप देख खुश और आश्चर्यचकित दोनों हो गया था. लंड को एकदम कस के चूसा गया इसलिए बबलू की उत्तेजना ठांसठांस के लंड को खड़ा कर चुकी थी. तभी बबलू को लगा की उसके लंड की चुसाई की सीमा आ गई हैं और अभी चोदना पड़ेंगा. उसने सरिता के कंधे पकडे और सरिता ने लंड को मुहं से निकाला. लंड को निकालने के बाद भी सरिता ने जैसे की जाते हुए का आखरी सलाम लेता जा वैसा कुछ करना हो, उसने लंड को एकबार और हाथ में ले के उसका अग्रभाग को पप्पी दे दी.

बबलू ने दीदी सरिता को चोदना चालू किया

सरिता ने अपनी लंबी नाईटी को कमर से उपर ली और गर्दन के ऊपर से निकाल दी. उसने अंदर कोई ब्रा नहीं पहनी थी. निचे उसने काली केप्री डाली थी जिसे उसने तुरंत उतार दी, उसे भी बहुत अरसे के बाद चोदना नसीब हुआ था और वह आज जी भर के चुदवाना चाहती थी बस. उसने बबलू का लंड हाथ में लिया और खुद बबलू के गद्दे के उपर लेट गई. उसने अपने हाथ पे थूंक लिया और अपनी चूत के होंठो से होते हुए अंदर के भाग को थोडा गिला किया, वैसे उसकी चूत  तो कबसे रस निकाल रही थी जिससे अच्छी खासी चिकनाहट पहेले से हो चुकी थी. बबलू के सामने देखते हुए सरिता बोली, “बबलू देख डंडा यहाँ देते हैं, वैसे तू फोटो में देख चूका हैं लेकिन यह चूत वैसी नहीं हैं. फोटो वाली गोरियां पैसे के लिए काम करती हैं इसलिए हर हफ्ते निचे के बाल निकालती हैं. मेरी चूत थोड़ी झांटो वाली हैं. यहाँ दो छेद होते हैं, ऊपर और निचे..निचे वाला छेद चोदने के लिए होता हैं और उपर वाला पिशाब के लिए. तेरा लंड मैं इस छेद में डालूंगी और तू मुझे चोदना चालू कर देना. बस अपनी कमर हिलाना और मेरी चूत के अंदर अपना लंड आगे पीछे करते रहना.”
बबलू जैसे की पहली कक्षा का बच्चा हो वैसे मुंडी हिला रहा था, उसकी बहन को क्या पता वोह कितनी पोर्न फिल्म अपने दोस्तों के साथ देख चूका हैं.बबलू भी पागल यानी की एडा बनके पेंडा खा रहा था. सरिता ने बबलू के लंड को हाथ में पकड़े हुए उसे अपने चूत के गर्म गर्म छेद पर रखा. बबलू ने इधर से हल्का झटका दिया और लंड को अंदर किया, उसने अब कमर हिलाके चोदना चालू कर दिया और सरिता की सिसकियाँ चालू हो गई. सरिता ने दोनों पाँव मोड़ दिए थे ताकि उसकी चूत के अंदर तक भाई का लंड आ सके. भाई बहन बड़े प्यार से चुदाई कर रहे थे. बबलू ने कुछ पांच मिनिट तक सरिता को इस तरह ही चोदा. सरिता भी उसे उकसा उकसा के उससे चुदवाती रही, बिच बिच में वो बबलू को ऐसे कर, तेज कर, धीरे कर ऐसे इंस्ट्रक्शन देती रही.
बबलू की झडप बढती रही और उसका लंड बहन की चूत को खोदता रहा, दो मिनिट के अंदर ही बबलू का लंड गाढ़ा पानी बहन की चूत में ही छोड़ने लगा. सरिता ने तुरंत कपडे पहने और वोह वीर्य को चूत से धोने के लिए नहाने चली गई, बबलू अब चोदना सिख गया हैं और सरिता उससे अक्सर चुदवाती रहती हैं………!!!


Comments are closed.



Online porn video at mobile phone


baaji ki chudaipure hindi sexchudai badi didi kibahan aur maa ki chudaisher ki chudaiमें ओर मेरी दीदी भाग 18Vidhva bahbi ko pta ke chodamaa aur beta chudaichikni auntyhindisex storiwww hindi seximuslim aurat ki chudaiझवाझवी कथा बहु कीnaukrani chutmummy ko sote me chodachachi ke sath chudai ki kahanidesi chut ka paniससुर ने बहु की चड्डी उतारने के चोदाmaami sex videosvideshi chudairandi chudai storygay indian sex storiesheroin ki chudaibap or beti ki chudairandi chudai ki kahanimummy ki chootnokari maza18 chutpolice wali ki chudaigoogle hindi sexjija sali chudai storysex karte huadesi gay sex storiessex story gf ke sath bhen ne di companydesi kahani chudaididi ki chudayichut land storeneelam ki chudaiaudio sex khanihindi chudai kahani in hindisavita ki chudai ki kahanibhai bahan ki chudaiसेक्स कहानीwww.com.co.inwww hinde sex store combhabhi ji ki chutnew desi xnxxbalatkar ki storyaunty ki chut storykahani chodne ki hindi photoकामवाली को पैसे देकर लन्ड नंद को भाभी के घर में ले जाकर बीफ सैक्सीbehan ki chut phadibur chudai kahani hindisaxy chodaidesi hindi sex kahanimausi ki beti ki chudaimami ko chodne ke tarikebhabhi ki chudai ki story in hindihot bhabhi ki chodaipati se bete tak ka sufar hindi sex fuck kahani part2chachi hindi sex storybhabhi ki chudai sex hindi storyhindi bhabhi ko chodachachi ki sexy storyblue film for hindiladki ki gand marikahani chudai kiट्रैन मैं और बस मैं अपनों से छुड़ाईmummy ko choda sex storynepali sex kahanichudai pyar sechudai story new hindihidi saxbahan ko maa banayamummy ki chudai kahanichoot ke chitradevar babbi desi sex rumays vidioindian bhabi sex storiesbahan sexmarathi zavadya story