कॉलेज की पटाखा को फसा कर फोड़ा – 1

College ki pataka ko fasa kar foda – 1:

हाय दोस्तों मैं हूँ राज | नाम तो सुना ही होगा और अगर नहीं सुना तो एक बार फिर से पढ़ लो | मैं इंदौर का रहने वाला हूँ एक स्मार्ट सा हैण्डसम सा और प्यारा सा लड़का हूँ | मेरे पिताजी एक लेखक है और मुझे भी शेरों शायरी का शौक है | मुझे मेरे बहुत से दोस्तो ने कहा है कि मैं बातें बहुत अच्छी करता हूँ और मेरे बात करने का तरीका भी अच्छा है लेकिन आज तक मैं सिर्फ चार लड़कियां ही पटा पाया हूँ | अच्छा अब मैं आपको अपनी कहानी की दुनिया में ले चलता हूँ जहाँ मैं आपको बताऊंगा की मैंने कैसे अपनी कॉलेज की सुंदरी को अपने प्रेम जाल में फसाया और उसके साथ |

ये बात है जब मैंने जवानी में कदम रखा था और मेरा साथ देने वाले बहुत से लोग थे मतलब मेरे साथ बहुत से लोग 18 साल के हुए थे | मैंने कॉलेज ज्वाइन किया इंजीनियरिंग करने के मन से लेकिन कदम ज़रा से बहक गए और मुझे एक लड़की भा गई | उसने कुछ दिन बाद कॉलेज में आना शुरू किया था और हमारी मुलाकात हुई जहाँ पर फीस जमा करते है वहां पर | मैं अपनी फीस लेकर जमा करने के लिए खड़ा था और भोले बच्चे के लिबास में खड़ा हुआ था तो उसने मुझे भोला समझने की भूल कर दी और आकर मुझसे पूछा ये फर्स्ट इयर की क्लास कहाँ लगती है ?

मैंने जैसे ही उसकी तरफ देखा और उसका रूप देख कर मेरा रोम रोम रोमांचित हो उठा और मुझे उससे खेलने की सूझी | तो मैंने कहा न्यू एडमिशन तो उसने कहा हाँ | तो मैंने कहा अपने सीनियर से कैसे बात करते हैं पता नहीं है ? मुंडी नीचे करो और अदब से पूछो | तो उसने अपनी सर झुकाया और अपनी बातों में इज्ज़त भर कर मुझ से पूछ सर ये फर्स्ट इयर की क्लास कहाँ लगती है ? तो मैंने उसको मार्ग दर्शन दिया और वो चली गई | जब वो जा रही थी तो मैं उसके पीछे लगी गांड को देख रहा था और फिर मैंने कहा देखने में तो नहीं लगती हो तुम रांड लेकिन इतनी बड़ी हो कैसे गई तुम्हारी गांड |

फिर मैंने फीस जमा की और अपनी क्लास की ओर कूच की और जाके अपनी क्लास में बैठ गया | मुझे ऐसा आभास हुआ जैसे कोई मुझे देख रहा है तो मैंने अपनी गर्दन को कष्ट देते हुए थोडा सा पीछे घुमाई और जिस लड़की को मैंने नीचे सताया था उसकी नज़रों को मुझे घूरते हुए पाई | मैं अन्दर से घबरा गया लेकिन ये मेरा क्या कर लेगी ? ये सोच कर उसे देखकर मुस्कुरा गया | उसने बहुत गन्दी शकल बनाई लेकिन मुझे उसे छेड़ने में बड़ी मज़ा आई |

फिर कुछ दिनों तक हमारी बिलकुल बात नहीं हुई लेकिन एक दिन किसी कारण वश मैडम ने मुझे उसके बाजू में बैठा दिया | मैंने उसकी तरफ देखा और कहा आई एम सॉरी वो थोडा सा मजाक कर रहा था | तो उसने कहा ठीक है लेकिन फिर कभी ऐसा करने की सोचना भी नहीं | तो मैंने कहा ठीक है और मैं हूँ राज नाम तो सुना ही नहीं होगा तो उसने हस दिया और कहने लगी मैं हूँ आकृति तो मैंने कहा अच्छा नाम है वैसे मैं एक बात बता दूँ आपको भगवान ने आपकी आकृति बहुत अच्छी बनाई है | तो उसने कहा अच्छा तुम्हें बातें बनाने और फ़्लर्ट करने के अलावा और कुछ आता है | तो मैंने कहा बस हुकुम करके देखिये ये नाचीज़ आपके लिए कुछ भी कर सकता है |

तो उसने कहा हट और बहुत प्यारी सी मुस्कान अपने चेहरे पे ले आई | जब वो मुस्कुरा रही थी मैं उसके होंठों पे गौर कर रहा था | उसके होंठ बिलकुल गुलाब की पंखुड़ी की तरह लग रहे थे और उसके होंठों के ऊपर एक छोटा सा तिल भी था जो रंग रूप को और निखार रहा था | मैं अपने अन्दर के इमरान हाश्मी को शांत कराने लगा और देव आनंद को जगाने लगा | तभी मुझे मैडम का एक मनमोहक सा सुर सुनाई दिया और मैडम ने कहा बात मत कर राज पढाई भी कर लिया कर | मैडम ने इतना सा बस कहा लेकिन मैंने इतनी देर तक आकृति के मन में अपनी इज्ज़त का जो महल बनाया था वो एक पल ढह गया |

मुझे लगा मेरी मेहनत बेकार गई लेकिन मामला मेरी सोच से अलग था | अब मेरी बात तो हो गई थी और मेरे मन के गिले शिकवे दूर हो गए और मैं आगे बढ़ने के बारे में सोच विचार करने लगा | अब मैं अगले दिन क्लास में बैठा था और वो आई नहीं तो मुझे लगा सिर्फ एक दिन का था क्या हमारा रिश्ता | तो उसने फ़ौरन क्लास में एंट्री मारी और मुझे लगा भगवान के घर में देर है अंधेर नहीं है उसने तुम्हें सिर्फ मेरे लिए भेजा है | फिर वो अपनी प्यारी सी हिरनी वाली चाल चलते हुए मेरे पास आने लगी मुझे लगा वाह मेरा जादू चल गया और ये अब मेरे पास आके बैठेगी लेकिन सोच तो सिर्फ सोच होती है और इतनी देर में वो मेरी बाजू से निकल गई और मेरे पीछे वाली सीट पर आकर बैठ गई |

मुझे बुरा लगा लेकिन मैंने सोचा अभी तक हम दोस्त भी नहीं हैं और मैं इसको घुमाने और बजाने के सपने देख रहा हूँ | फिर मेरे ख्यालों का गुब्बारा फूट गया और मैं असल ज़िन्दगी में आ गया | फिर मैं पीछे पलटा और उससे कहा हाय | तो उसने भी मुझे दबी हुई आवाज़ में कहा हाय मुझे लगा ये अभी नाराज़ है इसलिए मुझसे ठीक से बात नहीं कर रही लेकिन मामला ये था कि एक लड़के ने उसे आते वक़्त छेद दिया था और ये मुझे थोड़ी देर बाद पता चला अब हर कोई मेरे जैसा भला इंसान थोड़ी ना होता है |

मुझे ये बात अन्दर तक टच कर गई और मैंने उस लड़के का पता लगाया और उसकी गिरेबान पकड़ कर उससे कहा आगे से कभी भी तूने उसे छेड़ा तो सोच लेना आसमान में एक तारा और बढ़ जायेगा | तो उसने मुझे कहा क्यों कौन लगती है वो तेरी ? गर्लफ्रेंड या बहन | तो मैंने कहा गर्लफ्रेंड और उसने कहा अच्छा पहले तो कभी नहीं देखा तुझे उसके साथ ? तो मैंने कहा अभी बनी नहीं है बन जाएगी | तो उसने कहा ठीक है जा जिस दिन बन जाये बता देना उसकी तरफ देखूंगा भी नहीं लेकिन जब तक नहीं बनती मेरे से उलझने की कोशिश भी मत करना |

अब बात मेरी इज्ज़त पर आ चुकी थी और मेरा लक्ष्य अब आकृति को पटाना था और पुरे कॉलेज में उसका हाँथ पकड़ कर घूमना था | थोड़ी देर बाद जब मेरा गुस्सा शांत हुआ तो मैंने सोचा मैंने बोल तो दिया है लेकिन ये सब होगा कैसे ? अब मुझे अपने दो तीन दोस्तों कि मदद लेनी पड़ी जो लड़कियां पटाने में उस्ताद थे और उन्होंने ने अपनी ज़िन्दगी में बहुत से घाटों का पानी भी पिया है | मैं फ़ौरन उनकी शरण में पहुँच गया और उनसे मार्ग दर्शन लेने के लिए उनको सारी बात साफ़ और स्पष्ट रूप से समझा दी |

उन्होंने मुझे काफी कुछ नुस्खे बताये लेकिन मेरी समझ में एक ना आये | फिर मैंने उसने कहा गुरु देव आप मुझे एक एक करके बताये की करना क्या है ? तो उन्होंने मुझे कहा मैं तेरे को फ़ोन पे सब बताता जाऊंगा तो बस वैसा वैसा करते जाना और लड़की तेरी | मैं खुश हो गया और अगले दिन जब कॉलेज पहुँचा तो आकृति ने मुझसे आके कहा तुमने उस लड़के से लडाई की क्यों ? तो मैंने कहा उसने तुमको छेड़ा था इसलिए | तो उसने कहा तुम्हारी प्रॉब्लम क्या है ? मेरे पीछे क्यों पड़े हो ? तो मैंने कहा मैंने तुम्हारे लिए कुछ नहीं किया अगर ऐसा कोई किसी भी लड़की को करे तो मुझसे सहन नहीं होता |

तो उसने मुझसे कहा अच्छा आज मेरी दोस्त को एक लड़के ने छेड़ा है | तो मैंने भी बड़े ताव में उससे पूछा कौन है वो ? तो उसने कहा विकास कुजूर ( हमारे कॉलेज का गुंडा ) | मैंने जैसे ही उसका नाम सुना मेरी गांड फट गई | फिर उसने मुझे चार बातें सुनाई और चलती बनी | तो मैंने उसे रोका और ठीक है आई एम सॉरी अब मैं ना तुमसे बात करूँगा ना ही कभी तुम्हारे काम के आड़े आऊंगा और इतना बोल कर मैं चला गया | मैंने बहुत दिनों उससे बात नहीं की लगभग एक हफ्ता और फिर कुछ दिनों बाद वो मेरे पास आई और कहा वैसे आई एम सॉरी उस दिन मैं ज्यादा बोल गई लेकिन उस दिन के बाद उस लड़के ने मुझे परेशान नहीं किया सिर्फ तुम्हारी वजह से एंड थैंक यू |

तो मैंने कहा ठीक है इट्स ओके और फिर यहाँ वहां की बातों में उसे उलझा लिया और बहुत देर तक बातें करता रहा | अब मैं आपको इसके अगले भाग में बताऊंगा मैंने उसको कैसे फसाया और चोद कर अपना दीवाना बना दिया |


Comments are closed.



Online porn video at mobile phone


holi me chudai hindi fontsas ko kichan mai choda antarwana hindi sex kahaniyaindian sexy chudai kahanibhabhi k sathbur ki chodai ki kahaniFree new bahen ko chodte hue maa ne dekh liya kahanibhabhi sexy hindigarmi me chudaimakan malkin hindi sex storymaa ka sath sade ek revaj antervasana.com Hindi sax storeygang chudaisapna nangimadam ki chuchikuwari ladki ki chudai hindi kahaniantrvasna comchut ki chudai ki kahani hindihindi saxi khaniantarvasna labourvidhwa sexXXXAX FREA ङाऊनलौङ maa ko maa banayasexy story marathi languagelund ka mazabhabhi sex storymummy papa sexगे सेक्स की ककहानियों का संग्रहहवा में चुड़ैsexi maneger ki jordar chudai ki kahaniasex malishsister chudai storyxxx sex kahani hindibhabhi ki moti gand mariindian chudai kahani comreal sexy kahanihindi Ghar me maa bua maushi ne meri gand dildo se fari hindi chudai kahanichoot lund photokamsin ladki ki chudaiBhai ne bade lund se meri najuk choot faadi hindi sexstory.comantarvasna marathi sex storysasur se chudai kiantravarna family sexy stories mom son dad chachi dadiwww desi wapchut.com...janwar ki chudaipita ne chodanepali bhabhi sexsexy stories in hindi mebehan ki chudai antarvasnaमाताजी एंड पिता जी सामूहिक फैमिली सेक्सी हिंदी स्टोरीnai chudai kahanibete ko chodahindi font chudai storywww hindi sax storykamvasna ki kahanibua ko choda storyhorny bhabhi sexbap beti choda chudisexy story of bhai behansexy story indian in hindifree real sexy story in hindisex ki kahniyabhabhi devar ki chudai storydesi land and chutbahbhi nadi me boor xxx storynai chutmaa ko apni rakhel banaya, sex storymom ko choda with photoहिंदी सेक्स स्टोरी चिकनी जाँघmadhuri chutdesi xxx aunty ne karaya police station main apne Pati ke liye chudaischool main chudaimeena sex storyभाभी की गांड मारी लम्बीmote lnd burki fiery kahaniteacher aur student ki chudai kahanidesi pelaipyasa lundcudai comladki ki chudai ki kahani in hindiMaa Ki Chudai Plumber Ne Kidehati maa ki chudaixxx sundrta or garibi kahanipadosan ko chodamalkin ki chut mariदीदी कि पलंग पे बिस्तर तोड थंडी का मजाbhabhi ko jabardasti choda storybete ki chudai kahaniप्यारी बहना की पलंग तोड़ चुदाई भाग १kaam vasnasexstory. comsexy fucking hindi storymast lode se chudawaya Hindibhabhi ko nahate hue chodagirlfriend ki chudai story in hindibig anti lesbian stori hindichut aur loda