कॉलेज की पटाखा को फसा कर फोड़ा – 1

College ki pataka ko fasa kar foda – 1:

हाय दोस्तों मैं हूँ राज | नाम तो सुना ही होगा और अगर नहीं सुना तो एक बार फिर से पढ़ लो | मैं इंदौर का रहने वाला हूँ एक स्मार्ट सा हैण्डसम सा और प्यारा सा लड़का हूँ | मेरे पिताजी एक लेखक है और मुझे भी शेरों शायरी का शौक है | मुझे मेरे बहुत से दोस्तो ने कहा है कि मैं बातें बहुत अच्छी करता हूँ और मेरे बात करने का तरीका भी अच्छा है लेकिन आज तक मैं सिर्फ चार लड़कियां ही पटा पाया हूँ | अच्छा अब मैं आपको अपनी कहानी की दुनिया में ले चलता हूँ जहाँ मैं आपको बताऊंगा की मैंने कैसे अपनी कॉलेज की सुंदरी को अपने प्रेम जाल में फसाया और उसके साथ |

ये बात है जब मैंने जवानी में कदम रखा था और मेरा साथ देने वाले बहुत से लोग थे मतलब मेरे साथ बहुत से लोग 18 साल के हुए थे | मैंने कॉलेज ज्वाइन किया इंजीनियरिंग करने के मन से लेकिन कदम ज़रा से बहक गए और मुझे एक लड़की भा गई | उसने कुछ दिन बाद कॉलेज में आना शुरू किया था और हमारी मुलाकात हुई जहाँ पर फीस जमा करते है वहां पर | मैं अपनी फीस लेकर जमा करने के लिए खड़ा था और भोले बच्चे के लिबास में खड़ा हुआ था तो उसने मुझे भोला समझने की भूल कर दी और आकर मुझसे पूछा ये फर्स्ट इयर की क्लास कहाँ लगती है ?

मैंने जैसे ही उसकी तरफ देखा और उसका रूप देख कर मेरा रोम रोम रोमांचित हो उठा और मुझे उससे खेलने की सूझी | तो मैंने कहा न्यू एडमिशन तो उसने कहा हाँ | तो मैंने कहा अपने सीनियर से कैसे बात करते हैं पता नहीं है ? मुंडी नीचे करो और अदब से पूछो | तो उसने अपनी सर झुकाया और अपनी बातों में इज्ज़त भर कर मुझ से पूछ सर ये फर्स्ट इयर की क्लास कहाँ लगती है ? तो मैंने उसको मार्ग दर्शन दिया और वो चली गई | जब वो जा रही थी तो मैं उसके पीछे लगी गांड को देख रहा था और फिर मैंने कहा देखने में तो नहीं लगती हो तुम रांड लेकिन इतनी बड़ी हो कैसे गई तुम्हारी गांड |

फिर मैंने फीस जमा की और अपनी क्लास की ओर कूच की और जाके अपनी क्लास में बैठ गया | मुझे ऐसा आभास हुआ जैसे कोई मुझे देख रहा है तो मैंने अपनी गर्दन को कष्ट देते हुए थोडा सा पीछे घुमाई और जिस लड़की को मैंने नीचे सताया था उसकी नज़रों को मुझे घूरते हुए पाई | मैं अन्दर से घबरा गया लेकिन ये मेरा क्या कर लेगी ? ये सोच कर उसे देखकर मुस्कुरा गया | उसने बहुत गन्दी शकल बनाई लेकिन मुझे उसे छेड़ने में बड़ी मज़ा आई |

फिर कुछ दिनों तक हमारी बिलकुल बात नहीं हुई लेकिन एक दिन किसी कारण वश मैडम ने मुझे उसके बाजू में बैठा दिया | मैंने उसकी तरफ देखा और कहा आई एम सॉरी वो थोडा सा मजाक कर रहा था | तो उसने कहा ठीक है लेकिन फिर कभी ऐसा करने की सोचना भी नहीं | तो मैंने कहा ठीक है और मैं हूँ राज नाम तो सुना ही नहीं होगा तो उसने हस दिया और कहने लगी मैं हूँ आकृति तो मैंने कहा अच्छा नाम है वैसे मैं एक बात बता दूँ आपको भगवान ने आपकी आकृति बहुत अच्छी बनाई है | तो उसने कहा अच्छा तुम्हें बातें बनाने और फ़्लर्ट करने के अलावा और कुछ आता है | तो मैंने कहा बस हुकुम करके देखिये ये नाचीज़ आपके लिए कुछ भी कर सकता है |

तो उसने कहा हट और बहुत प्यारी सी मुस्कान अपने चेहरे पे ले आई | जब वो मुस्कुरा रही थी मैं उसके होंठों पे गौर कर रहा था | उसके होंठ बिलकुल गुलाब की पंखुड़ी की तरह लग रहे थे और उसके होंठों के ऊपर एक छोटा सा तिल भी था जो रंग रूप को और निखार रहा था | मैं अपने अन्दर के इमरान हाश्मी को शांत कराने लगा और देव आनंद को जगाने लगा | तभी मुझे मैडम का एक मनमोहक सा सुर सुनाई दिया और मैडम ने कहा बात मत कर राज पढाई भी कर लिया कर | मैडम ने इतना सा बस कहा लेकिन मैंने इतनी देर तक आकृति के मन में अपनी इज्ज़त का जो महल बनाया था वो एक पल ढह गया |

मुझे लगा मेरी मेहनत बेकार गई लेकिन मामला मेरी सोच से अलग था | अब मेरी बात तो हो गई थी और मेरे मन के गिले शिकवे दूर हो गए और मैं आगे बढ़ने के बारे में सोच विचार करने लगा | अब मैं अगले दिन क्लास में बैठा था और वो आई नहीं तो मुझे लगा सिर्फ एक दिन का था क्या हमारा रिश्ता | तो उसने फ़ौरन क्लास में एंट्री मारी और मुझे लगा भगवान के घर में देर है अंधेर नहीं है उसने तुम्हें सिर्फ मेरे लिए भेजा है | फिर वो अपनी प्यारी सी हिरनी वाली चाल चलते हुए मेरे पास आने लगी मुझे लगा वाह मेरा जादू चल गया और ये अब मेरे पास आके बैठेगी लेकिन सोच तो सिर्फ सोच होती है और इतनी देर में वो मेरी बाजू से निकल गई और मेरे पीछे वाली सीट पर आकर बैठ गई |

मुझे बुरा लगा लेकिन मैंने सोचा अभी तक हम दोस्त भी नहीं हैं और मैं इसको घुमाने और बजाने के सपने देख रहा हूँ | फिर मेरे ख्यालों का गुब्बारा फूट गया और मैं असल ज़िन्दगी में आ गया | फिर मैं पीछे पलटा और उससे कहा हाय | तो उसने भी मुझे दबी हुई आवाज़ में कहा हाय मुझे लगा ये अभी नाराज़ है इसलिए मुझसे ठीक से बात नहीं कर रही लेकिन मामला ये था कि एक लड़के ने उसे आते वक़्त छेद दिया था और ये मुझे थोड़ी देर बाद पता चला अब हर कोई मेरे जैसा भला इंसान थोड़ी ना होता है |

मुझे ये बात अन्दर तक टच कर गई और मैंने उस लड़के का पता लगाया और उसकी गिरेबान पकड़ कर उससे कहा आगे से कभी भी तूने उसे छेड़ा तो सोच लेना आसमान में एक तारा और बढ़ जायेगा | तो उसने मुझे कहा क्यों कौन लगती है वो तेरी ? गर्लफ्रेंड या बहन | तो मैंने कहा गर्लफ्रेंड और उसने कहा अच्छा पहले तो कभी नहीं देखा तुझे उसके साथ ? तो मैंने कहा अभी बनी नहीं है बन जाएगी | तो उसने कहा ठीक है जा जिस दिन बन जाये बता देना उसकी तरफ देखूंगा भी नहीं लेकिन जब तक नहीं बनती मेरे से उलझने की कोशिश भी मत करना |

अब बात मेरी इज्ज़त पर आ चुकी थी और मेरा लक्ष्य अब आकृति को पटाना था और पुरे कॉलेज में उसका हाँथ पकड़ कर घूमना था | थोड़ी देर बाद जब मेरा गुस्सा शांत हुआ तो मैंने सोचा मैंने बोल तो दिया है लेकिन ये सब होगा कैसे ? अब मुझे अपने दो तीन दोस्तों कि मदद लेनी पड़ी जो लड़कियां पटाने में उस्ताद थे और उन्होंने ने अपनी ज़िन्दगी में बहुत से घाटों का पानी भी पिया है | मैं फ़ौरन उनकी शरण में पहुँच गया और उनसे मार्ग दर्शन लेने के लिए उनको सारी बात साफ़ और स्पष्ट रूप से समझा दी |

उन्होंने मुझे काफी कुछ नुस्खे बताये लेकिन मेरी समझ में एक ना आये | फिर मैंने उसने कहा गुरु देव आप मुझे एक एक करके बताये की करना क्या है ? तो उन्होंने मुझे कहा मैं तेरे को फ़ोन पे सब बताता जाऊंगा तो बस वैसा वैसा करते जाना और लड़की तेरी | मैं खुश हो गया और अगले दिन जब कॉलेज पहुँचा तो आकृति ने मुझसे आके कहा तुमने उस लड़के से लडाई की क्यों ? तो मैंने कहा उसने तुमको छेड़ा था इसलिए | तो उसने कहा तुम्हारी प्रॉब्लम क्या है ? मेरे पीछे क्यों पड़े हो ? तो मैंने कहा मैंने तुम्हारे लिए कुछ नहीं किया अगर ऐसा कोई किसी भी लड़की को करे तो मुझसे सहन नहीं होता |

तो उसने मुझसे कहा अच्छा आज मेरी दोस्त को एक लड़के ने छेड़ा है | तो मैंने भी बड़े ताव में उससे पूछा कौन है वो ? तो उसने कहा विकास कुजूर ( हमारे कॉलेज का गुंडा ) | मैंने जैसे ही उसका नाम सुना मेरी गांड फट गई | फिर उसने मुझे चार बातें सुनाई और चलती बनी | तो मैंने उसे रोका और ठीक है आई एम सॉरी अब मैं ना तुमसे बात करूँगा ना ही कभी तुम्हारे काम के आड़े आऊंगा और इतना बोल कर मैं चला गया | मैंने बहुत दिनों उससे बात नहीं की लगभग एक हफ्ता और फिर कुछ दिनों बाद वो मेरे पास आई और कहा वैसे आई एम सॉरी उस दिन मैं ज्यादा बोल गई लेकिन उस दिन के बाद उस लड़के ने मुझे परेशान नहीं किया सिर्फ तुम्हारी वजह से एंड थैंक यू |

तो मैंने कहा ठीक है इट्स ओके और फिर यहाँ वहां की बातों में उसे उलझा लिया और बहुत देर तक बातें करता रहा | अब मैं आपको इसके अगले भाग में बताऊंगा मैंने उसको कैसे फसाया और चोद कर अपना दीवाना बना दिया |


Comments are closed.



Online porn video at mobile phone


hot anty ke sex account dekh ke unse kia sex story only hindi meBhabi ko rap korke bhut chudai ke sax storiessexy hindi chudai videochachi ne ghar bula ke chud chtdwyimaa ki choot ki kahaniass gaandbhabi sexy storybhabhi ki chudai ki mast kahanimaa ko bete chodamoti ldki ki fudi xemausi ki chudai sex storymausi ko choda kahanigf ko ghar bula kr muth marwai hindi storyपापा ने मुझे चोदकर मेरी इज्जत बचाई Sex storykamsutra story in hindi pdfbhabhi srxchut aur lund ka khelgalatu se chudi gf ki mom sex story desi kahani bhabhiBadmasti bar chil kar leta hai jo lund ki pyasi auratchachi ki chut chudaisexy khanichachi ko chod diyahindi xex storychudai ki kahaniynaAtm me mili bhabhi ke sath sexy storytamanna secCHUDAI KAHANIHINDIN SEXdost bhen chhudachudasi maaindian saxy antybhabhi ko choda story hindiApne dost ki ma ko papad bel kar pata kar coda antarvasna story hindi sax khaneपालटी मे गाँड मारीभाई की मौत के बाद सगी बङी भाभी को पटाके मसुरी मैँ चोदा चुदाई कहानीbidhwa kechot hindi sex storyChudne wale gao ka admi ki kahanichut chatiantarvasnakahani sex in hindisexy storys hindibadi behen ki zindagi chote bhai ne bachai chudai kahanireal chudai kahaniअनजान सफ़र मे अनजान चुत14 sal ki ladki chudaidesi bhabhi ki chudai sexwww savita bhabhi ki chudai comgandi tatti khane ki kahani in familyhindi sex xxx storyhindi x sexMoti maa chudai HD freehdx comdurg ki antarvasnapolice wali ka rape sex storywww.xxxx.saxe.bf.kahane.com.inantarvasnasex story in hindihindi english sex storiesChoti nokrani ki bade landwale malik se chudai kihindi sex storyroj naya mard ka hindi sex storywww.sadi ke bad ladka ladki kya karte hai xxx khanibathroom me chudaiभईया कि रखेल भावी हिन्दी xuxx vedoXxx batea karka suhgrat may chodanasexy hot story dada ji ne poti ko nukrani samjh kar andhere me chodawww.mujhe chodo magar pyar se taki dard na hove storyantarvasnaindian porbdidi fuckmaa bete ki hindi sex kahaniuncle ne sharam utari mrri. sexy kahaniaantar vasana pregency waliबेटी फिरोज चाचा चुदाई कहानीChudai,kahanichudai newschachi chudai story hindikamukta photoसलवार मे गाँव की लडकी को धीरे~2 पटायाmota lund mom storyhindi