गर्भवती बनाकर मुझसे दूरी बनाने लगा

Kamukta, sex stories in hindi, antarvasna:

Garbhwati banakar mujhse doori banane laga मैं दीदी के साथ बैठी हुई थी और उनके साथ मैं बात कर रही थी तभी  पापा का फोन आया और वह कहने लगे कि महिमा बेटा तुम मेघा के साथ तैयार होकर शर्मा जी की दुकान के पास आ जाना। मैंने पापा से कहा पापा लेकिन क्या कोई जरूरी काम है तो पापा कहने लगे कि हां बेटा हमारे ऑफिस के महेंद्र साहब ने घर पर अपनी शादी की 25वीं सालगिरह पर एक पार्टी रखी है उसमें वह चाहते हैं कि हमारे ऑफिस में जितने भी स्टाफ है उनके परिवार वाले उनके घर पर जाएं। मैंने पापा से कहा पापा लेकिन आपने तो हमें पहले इस बारे में कुछ भी नहीं बताया पापा कहने लगे बेटा मैं बताना भूल गया तुम्हें तो मालूम है कि मुझे भूलने की कितनी आदत है और इसी आदत की वजह से मैं बहुत ज्यादा परेशान भी हो गया हूं और मेरे दिमाग से यह बात बिलकुल ही निकल गई।

मैंने पापा से कहा चलिए कोई बात नहीं मैं और दीदी तैयार होकर आ जाएंगे लेकिन आप कितने बजे तक आएंगे पापा कहने लगे बेटा मुझे आने में 6 तो बज ही जाएंगे मैंने पापा से कहा ठीक है पापा। मेरी मां बचपन में ही चल बसी थी और उनकी कमी पापा ने पूरी कि उन्होंने हमें कभी भी मम्मी की कमी महसूस नहीं होने दी। मेरी दादी पापा के पीछे पड़ी रही और उन्हें कहती रही कि तुम दूसरी शादी कर लो लेकिन पापा ने दूसरी शादी नहीं की पापा चाहते थे कि हमारी परवरिश में कोई भी कमी ना रह जाए इसके लिए उन्होंने दूसरी शादी भी नहीं की। हम दोनों बहने पापा को बहुत प्यार करती हैं और मेघा दीदी तो हमेशा ही पापा को कहती हैं कि मैं शादी कर के कहीं नहीं जाने वाली लेकिन एक न एक दिन तो मेघा दीदी को शादी कर के जाना ही है। हम लोग तैयार होने लगे थे समय का पता ही नहीं चला कब 5:00 बज गए मैंने पापा को फोन किया और कहा पापा आप कितनी देर में आ रहे हैं तो पापा कहने लगे कि बेटा मैं ऑफिस से निकल रहा हूं बस थोड़ी देर बाद मैं घर पहुंच जाऊंगा।

मैंने पापा से कहा हम लोग भी तैयार हो चुके हैं हम लोग घर के नीचे ही आ जाएंगे, मैंने पापा से पूछा पापा आप क्या तैयार नहीं होंगे तो वह कहने लगे बेटा इतना समय नहीं है हम लोगों को महेंद्र जी के घर पर 7:00 बजे तक पहुंचना है। पापा का इंतजार हम दोनों बहने कर रही थी और 6:00 बजने में करीबन 10 मिनट बचे थे और हम लोग घर का ताला लगाते हुए घर से नीचे आ गए। हम लोगों ने पापा को फोन किया तो पापा फोन उठा नहीं रहे थे और वह कुछ देर बाद आ गए हम दोनों बहनें कार में बैठी और पापा के साथ महेंद्र जी के घर पर चली गई। महेंद्र जी पापा के दफ्तर में उनके सीनियर हैं पापा ने उनकी बड़ी तारीफ की और कहने लगे कि महेंद्र जी बहुत ही अच्छे हैं और दिल के तो वह इतने अच्छे है कि जब भी किसी को कोई मदद की आवश्यकता होती है तो वह सबसे पहले मदद के लिए खड़े रहते हैं। मैंने पापा से कहा पापा लेकिन हम लोग वहां कितने देर तक रुकने वाले हैं पापा कहने लगे बेटा ज्यादा देर तक तो नहीं लेकिन इसी बहाने तुम मेरे ऑफिस के और भी लोगों से मुलाकात कर लोगे। मेघा दीदी चुपचाप बैठी हुई थी मैंने दीदी से कहा दीदी आप बात क्यों नहीं कर रही है तो दीदी कहने लगी कि बस ऐसे ही मैं बैठी हुई हूं। हम लोग महेंद्र जी के घर पर पहुंच चुके थे जब हम लोग उनके घर पर पहुंचे तो वहां पर पापा के स्टाफ के और लोग भी आए हुए थे वह सब लोग बड़े खुश नजर आ रहे थे। पापा ने जब महेंद्र जी से हम दोनों बहनों को मिलवाया तो वह पापा को कहने लगे कि आपकी बेटियां तो बहुत सुंदर है वह हम दोनों की बहुत तारीफ कर रहे थे उन्होंने मैं मेघा दीदी से पूछा बेटा तुम क्या कर रही हो। मेघा दीदी ने कहा अंकल जी मेरा कॉलेज पूरा हो चुका है और अब मैं जॉब की तैयारी कर रही हूं महेंद्र अंकल ने मुझसे भी पूछा तो मैंने भी उन्हें जवाब देते हुए कहा कि अंकल मैं भी जॉब की तैयारी कर रही हूं। हम लोग अंकल के साथ अच्छे से बात कर रहे थे तभी सामने से पापा के ही स्टाफ के कुछ लोग आए और वह पापा से कहने लगे कि अच्छा तो यह आपकी बेटियां हैं।

पापा ने हमें उन से भी मिलवाया पापा ने लगभग हमें सब लोगों से मिलवा दिया था और उनके स्टाफ के जितने भी लोग थे वह बड़े ही अच्छे हैं पापा की सब लोग बहुत इज्जत करते हैं यह पहला ही मौका था जब हम लोग पापा के ऑफिस के सब लोगों से मिल रहे थे। मेघा दीदी अभी भी चुपचाप थी वह ज्यादा बात नहीं कर रही थी पता नहीं ऐसी क्या बात थी कि वह बहुत ही गुमसुम सी नजर आ रही थी। मैंने दीदी से पूछने की कोशिश की लेकिन उन्होंने मुझे कुछ भी नहीं बताया हम लोग आपस में बैठे हुए थे लेकिन हम लोग बात नहीं कर रहे थे। पापा हमारे पास आकर बैठे और कहने लगे कि बेटा तुम लोग कुछ खा लो मेघा दीदी ने तो मना कर दिया और कहने लगी कि मेरा मन खाने का नहीं हो रहा है। जहां पर खाने का अरेंजमेंट किया हुआ था मैं वहां पर चली गई मैंने प्लेट उठाई और मैं खाना खाने लगी तभी पापा भी पीछे से आए और वह भी मुझे कहने लगे कि चलो मैं भी तुम्हारे साथ ही खा लेता हूं। हम लोग साथ में ही खाना खा रहे थे मेघा दीदी ने एक निवाला मेरे प्लेट से निकाला और खा लिया। मैंने दीदी से कहा दीदी आपका खाने का क्यों मन नहीं है तो वह कहने लगी बस ऐसे ही मन नहीं हो रहा है।

पार्टी में मेरी नजरें जब दीपक से टकराई तो दीपक को देखकर एक अपनापन सा लगा। मुझे दीपक से बात करनी थी लेकिन उस दिन हमारी बात हो ही नहीं पाई उस रात हम लोग घर चले गए। जब मैं घर पर गई तो दीदी ने मुझे अपने बॉयफ्रेंड के बारे में बताया और कहा कि कुछ दिनों से उनका झगड़ा हुआ है और वह प्रेग्नेंट भी हो चुकी है इस बात से दीदी बहुत ज्यादा घबरा गई थी जिससे कि वह किसी को भी नहीं बता पा रही थी। एक तरफ दीदी अपने रिश्ते को बचाने की कोशिश कर रही थी और दूसरी तरफ में अपने रिश्ते को शुरू करने की कोशिश कर रही थी मेरी मुलाकात दीपक से हो गई। दीपक से जब मे मिली तो हम दोनों एक दूसरे से बात करने लगी और मुझे दीपक से बात करना अच्छा लग रहा था मैंने दीपक को अपना तन बदन सौंप दिया। जब हम लोग अकेले में एक दूसरे से मिले तो जैसे हम दोनों को मौका मिल गया और दीपक मेरे होठों को चूम रहा था। मैं दीपक के होठों को चूम रही थी दीपक के साथ चुम्मा चाटी करने के बाद जब मैंने अपने सूट को उतारा तो दीपक मेरे स्तनों को दबाने लगा। वह मुझे कहने लगा कि तुम्हारे स्तन बड़े ही गोरे हैं मैंने उसे कहा तुम इनका रसपान क्यों नहीं करते दीपक ने भी मेरे स्तनों का रसपान करना शुरू कर दिया और मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। दीपक मेरे स्तनों को चूसता तो मेरे अंदर से एक अलग ही उत्तेजना जाग जाती काफी देर ऐसा करने के बाद जब दीपक ने मेरी चूत को दबाया तो मैं मचलने लगी। दीपक ने मेरी सलवार को उतारते हुए मेरी चूत मे अपनी उंगली को लगाया तो मैं मचलने लगी और जिस प्रकार से वह मेरी चूत को सहला रहा था उससे मै बहुत ज्यादा उत्तेजित होने लगी थी और उसने मेरी चूत के अंदर लंड को घुसने की कोशिश की लेकिन जब उसने मेरी चूत को चाटा तो मुझे बहुत अच्छा लगा और काफी देर तक दीपक ने मेरी चूत को चाटना जारी रखा। जिस से कि मेरे अंदर का जोश बढ़ने लगा था और मैंने दीपक से कहा कि मेरे अंदर उत्तेजना बहुत ज्यादा बढ़ने लगी है तो दीपक कहने लगा कोई बात नहीं है उसे आज मैं शांत कर देता हूं।

दीपक ने अपने मोटे लंड को बाहर निकाला और जैसे ही उसने मेरी योनि पर अपने लंड को सटाया तो मैं बहुत ज्यादा उत्तेजित होने लगी दीपक मेरी योनि के अंदर अपने लंड को धकेलने लगा जैसे ही उसका मोटा लंड मेरी योनि के अंदर प्रवेश हुआ तो मैं चिल्लाने लगी मेरे मुंह से चीख निकलने लगी थी। मुझे बड़ा अच्छा लगा और दीपक काफी देर तक ऐसे ही मुझे धक्के मारता रहा मेरी योनि से खून निकलने लगा था मुझे दर्द का एहसास हो रहा था लेकिन मुझे उस दर्द में मजा भी आ रहा था। दीपक को भी बहुत अच्छा लग रहा था काफी देर तक दीपक ने मुझे अपने नीचे लेटा कर चोदा जब दीपक ने अपने वीर्य को मेरी योनि के अंदर प्रवेश करवा दिया तो मैंने दीपक से कहा तुम्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था लेकिन दीपक ने तो आपने वीर्य को मेरी चूत के अंदर डाल दिया था।

दीपक ने मेरी चूतड़ों को पकड़ते हुए मेरी योनि के अंदर लंड को घुसाया तो मैं चिल्लाने लगी। दीपक का मोटा लंड मेरी चूत के अंदर तक जा चुका था मैं बहुत ही ज्यादा मचलने लगी थी मुझे बहुत ज्यादा दर्द होने लगा था लेकिन मुझे अच्छा लग रहा था। काफी देर तक हम दोनों एक-दूसरे के बदन की गर्मी को ऐसे ही महसूस करते रहे। मैंने दीपक से कहा कि मुझे बहुत अच्छा लग रहा है तो दीपक कहने लगा मजा तो मुझे भी बढ़ा रहा है और कुछ देर बाद ही तुम्हारी चूत के अंदर में अपने वीर्य को गिरा दूंगा। दीपक ने अपने वीर्य को मेरी चूत के अंदर गिरा दिया था मैं घबरा रही थी कि कहीं कुछ हो ना जाए। मैं बार-बार दीपक को फोन करती तो दीपक मुझे कहता कि कुछ नहीं होगा तुम चिंता मत करो लेकिन मैं भी प्रेग्नेंट हो चुकी है और दीदी भी प्रेग्नेंट हो चुकी थी। हम दोनों ही बहुत डरी हुई थी हम दोनों के पास ही शायद कोई रास्ता नहीं था दीपक कुछ दिनों से मुझसे अच्छे से बात नहीं कर रहा था और मुझे भी इस बात का डर था कि कहीं दीपक मुझे छोड़ ना दे। जवानी की गलतियां मुझे अब समझ आ रही थी।


Comments are closed.



Online porn video at mobile phone


desi suhagraat sexsachi sexy kahaniyadidi ki chut marima aur beti ki chudaimosi ki ladki ki chutnani ki chudaichut me panikuwari chut chudai kahanikamuktta comkaali ladki ko chodamaa ki chudai new kahanichudakkad maa ne gand mara li xxx Hindi storyhindi kahani maa ko chodacollege ki ladkiyon ki chudailund aur bur ki chudaix hindi blue filmaunty bhabhi ki chudaiboor kahanichudai hindi sexy storyनवीन सेक्स कथाmota lund choti chutmaa ki chudai sex kahanimaa ki chudai sex kahanisoti bhabhi ki chudaixxx hindi khaniyapados wali bhabhi ki chudaiparivarik chudai kahanimeri bibi me boss se chodwai xxx Hindi story photo ke sathmastram ki chudai ki storiesladki chutbhai sex storyjabardasti sex kahaniclassmate ki chudai storydesi buluchut chudai desi kahanichut me land hindisex story of chachima banne ke lalach me tantirik ce chodai kahanihindi sexy kahaniya 2015hindi savita bhabhi ki chudaidil ki chudaibehan ne chodna sikhayarajasthan ki chudaighar ki gandxxx khani bhai bhn toylat hindedevar bhabhi ko chodasexy khaniyabhabhi ko choda sex storyकाका आणि पपा गांड (चुदाई) करत videonaukar aur malkin ka sexchodai bur kipolice walisex aunty ki chudaishahi chudaihi chutmeri maa ki chudai storybhabhi ko jamkar chodaantarvasna com hindi story 2010online sex story hindidosto ne maa ko chodaAnatrvasna sarkari office me parmosan me liye aunty ko chudaiantarvasna hot storylund bur ki kahanireal chudai comsuhagrat photokahani maa ki chudai kikhet me gand marichoot me lund videonew latest hindi sex storybete ne maa ko choda hindi sex storyladki chudai kahanilund chudai kahanibhabhi ko choda photos hotfree hindi sex kahaniladki ki chudai ki kahani hindi megandi sexi storyसिस्टर varjen लोढा सेक्स होतwww hindi sexy kahani comsexstoryinhindimarathi sex katha in marathihindi maa chudai ki kahanihindi chudai story freesuhagraat com