होली में फट गई चोली

मुझे त्योहारों में बहुत मज़ा आता है, खास तौर से होली में.

पर कुछ चीजे त्योहारों में गडबड है. जैसे मेरे मायके में मेरी मम्मी और उनसे भी बढ़के छोटी बहने.
कह रही थी कि मैं अपनी पहली होली मायके में मनाऊँ. वैसे मेरी बहनों की असली दिलचस्पी तो अपने जीजा जी के साथ होली खेलने में थी. परन्तु मेरे ससुराल के लोग कह रहे थे कि बहु की पहली होली ससुराल में ही होनी चाहिये.

मैं बड़ी दुविधा में थी. पर त्योहारों में गडबड से कई बार परेशानियां सुलझ भी जाती है. और ऐसा हुआ भी, इस बार होली २ दिन पड़ी. (दरअसल हिन्दुओं के सारे त्यौहार हिन्दी महीनों (जैसे- चैत्र, वैशाख….आदि) से मनाए जाते है और हिन्दी महीने तारीख से नही बल्कि तिथियों से चलते है. कई बार एक ही दिन और एक ही तारीख को दो तिथि मिल जाती है या एक ही तिथि दो दिनों तक रहती है. इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ.)

मेरी ससुराल में 14 मार्च को और

मायके में 15 को होली मनाई जानी थी.

मेरे मायके में जबर्दस्त होली होती है और वो भी दो दिन. तय हुआ कि मेरे घर से कोई आ के मुझे होली वाले दिन ले जाए और ‘ये’ होली के अगले दिन सुबह पहुँच जायेंगे. मेरे मायके में तो मेरी दो छोटी बहनों नमिता और श्वेता के सिवाय कोई था नहीं. मम्मी ने फिर ये प्लान बनाया कि मेरा ममेरा भाई, विक्रम, जो 11वी में पढ़ता था, वही होली के एक दिन पहले आ के ले जायेगा.

“विक्रम की चुन्नी” मेरी ननद सपना ने छेड़ा.

वैसे बात उसकी सही थी. वह बहुत कोमल, खूब गोरा, लड़कियों की तरह शर्मीला, बस यु समझ लीजिए कि जब से वो class 8 में पहुँचा, लड़के उसके पीछे पड़े रहते थे. यूं कहिये कि ‘नमकीन’ और highschool में उसकी टाइटिल थी, “है शुक्र कि तू है लड़का”, पर मैंने भी सपना को जवाब दिया, “अरे आएगा तो खोल के देख लेना, क्या है अंदर हिम्मत हो तो…”

“हाँ, पता चल जायेगा कि नुन्नी है या लंड(penis)” मेरी जेठानी ने मेरा साथ दिया.

“अरे भाभी उसका तो मुंगफली जैसा होगा, उससे क्या होगा हमारा..???” मेरी बड़ी ननद ने चिढ़ाया.

“अरे मूंगफली है या केला..??? ये तो पकड़ोगी तो पता चलेगा. पर मुझे अच्छी तरह मालूम है कि तुम लोगों ने मुझे ले जाने के लिये उसे बुलाने की शर्त इसीलिये रखी है कि तुम लोग उससे मज़ा लेना चाहती हो.” हँसते हुए मैं बोली.

“भाभी उससे मज़ा तो लोग लेना चाहते है, पर हम या कोई और ये तो होली में ही पता चलेगा. आपको अब तक तो पता चल ही गया होगा कि यहाँ के लोग पिछवाड़े के कितने शौक़ीन होते है..???” मेरी बड़ी ननद रानू जो शादी-शुदा थी, खूब मुह-फट्ट थी और खुल के मजाक करती थी.

बात उसकी सही थी.

मैं Flash-Back में चली गई…………………..

सुहागरात के 4-5 दिन के अंदर ही, मेरे पिछवाड़े की शुरुआत तो उन्होंने दो दिन के अंदर ही कर दी थी.
मुझे अब तक याद है, उस दिन मैंने सलवार-सूट पहन रखा था, जो थोड़ा Tight था और मेरे मम्मे(boobs) और नितम्ब खूब उभर के दिख रहे थे. रानू ने मेरे चूतडों पे चिकौटी काटते चिढ़ाया, “भाभी लगता है आपके पिछवाड़े में काफी खुजली मच रही है….? आज आपकी गाण्ड बचने वाली नहीं है, अगर आपको इन कपड़ो में भैया ने देख लिया तो…”
“अरे तो डरती हूँ क्या तुम्हारे भैया से..??? जब से आई हूँ लगातार तो चालू रहते है, बाकि और कुछ तो अब बचा नहीं…… ये भी कब तक बचेगी..???” चूतडों को मटका के मैंने जवाब दिया.
और तब तक ‘वो’ भी आ गए. उन्होंने एक हाथ से खूब कस के मेरे चूतडों को दबोच लिया और उनकी एक उंगली मेरे कसी सलवार में गाण्ड के Crack में घुस गई. उनसे बचने के लिये मैं रजाई में घुस गई अपनी सास के बगल में…..
‘वह’ भी रजाई में मेरी बगल में घुस के बैठ गए और अपना एक हाथ मेरे कंधे पे रख दिया. ‘उनकी’ बगल में मेरी जेठानी और छोटी ननद बैठी थी.
छेड़-छाड़ सिर्फ कोई ‘उनकी’ जागीर तो थी नहीं..??? सासू के बगल में मैं थोड़ा safe भी महसूस कर रही थी और रजाई के अंदर हाथ भी थोड़ा bold हो जाता है. मैंने पजामे के ऊपर हाथ रखा तो उनका खुटा पूरी तरह खड़ा था. मैंने शरारत से उसे हल्के से दबा दिया और उनकी ओर मुस्कुरा के देखा.
बेचारे…. चाह के भी….. अब मैंने और Bold हो के हाथ उनके पजामे में डाल के सुपाड़े को खोल दिया. पूरी तरह फूला और गरम था. उसे सहलाते-सहलाते मैंने अपने लंबे नाख़ून से उनके pi hole को छेड़ दिया. जोश में आके उन्होंने मेरे कबूतर(Boobs) कस के दबा दिए.
उनके चेहरे से उत्तेजना साफ़ झलक रही थी. वह उठ के बगल के कमरे में चले गए जो मेरी छोटी ननद का Study Room था. बड़ी मुश्किल से मेरी ननद और जेठानी ने अपनी मुस्कान दबायी.
“जाइये-जाइये भाभी, अभी आपका बुलावा आ रहा होगा.” शैतानी से मेरी छोटी ननद बोली.

(TBC)…


Comments are closed.



Online porn video at mobile phone


www new hindi sex story comKamasutra stories sambohg hindimaa beta chodabhabhi ko kese patayelund aag me ghee chudaiपुजारिन की गंडमरीchote bache ki chudaisexy khanyasexy hindi chudai ki kahaniaunty nedard bhari chudaijija sali saxadult kahaniyajabardasti hindi sex storyiss sexy storykuwari choot ke photodidi ki chudai hindirat me chudaituition chudaichudai ka shaukchoot ki chudai hindi storysasur ko patayachachi ki gand marimaa bete ki chudai ki kahani hindihindi sax satorihospital me chudaikashmir aunty sexchudai hindi font kahanichudai train mevidhwa bhabhi ki chudai videoxxx hd landhinde photosbeti chudai kahanitrain mai chudai storyaunty ki chudai storyकामवाली को पैसे देकर लन्ड bhabhi ki chudai in hindi storiesantarvasna free sex storysex story hindi writingantarvasna hindi sexy storymaa hindi sex storydase bap bate sex stores hinde ma.co.inzordar chudaigandi hindi sex kahanikuwari chudai ki kahaniचाची की चुत चोदी पट केlund aur chut ki storybhai behan sexy storybhaiya bhabhi ki chudaisona ki chudaiapni maa ko chodaaunty kathachut chudai bhabhibina ticket pakdi gayi aur jabardasti chudwaya sex stories in hindisasur ne choda videobehan ki gand mari kahanichut marwaifree sex hindi store बस मे बेटा मॉं की कामवासनाapni bahu ko chodaआंटी की गिफ्ट वाला गांडhindi aunty sexy storymastram chutladki ki chudai ki photoajib chudai ki kahanimami chudaihindi kahani adultsex story real hindibhabi ki chudayissex storykamvasna ki kahaniबहन की चोदाई कहानीdost ki bahan ko chodate dekha aur chodakaku sexmausi ki chudai hindi kahanibhai bahan chudaisavita bhabhi ki gand ki chudaihindsaxhidi sexy kahanimaa bete ki sex storymummy ko papa ke sath chodanangi bur chudaiaunty ki chut in hindiakeli aunty ki chudaidesi aunty ki chudai storyप्लेबॉय बनने के फायदे और घाटे मालूम हुएbur ki chudai hindidehati girl photochudasi bhabhihot chachi ki chudaikamsutra ki chudaiek chut ki kahaniहॉट family लांग सेक्स स्टोरी इन हिंदी चूत चूसैraste mein chudaihindi me chut ki kahanimastani ki chudaimeri pahli dardnak chudai bhanje se hindi sex storyवर्जिन दीदी की मालिस क्सक्सक्स हिंदी स्टोरीsex history in hindiकामुकता sex storiesMare Bibi ke Holi sex hinde stories.inbahan ko choda hindi story