मेरा बदन अब तुम्हारा हुआ

Mera badan ab tumhara hua:

hidi sex story, antarvasna हेलो दोस्तों मैं अपने उस रिलेशन के बारे में आपसे बात करने जा रहा हूं जो कि अब नहीं है, मैं और कृतिका अब एक साथ रिलेशन में नहीं है लेकिन उसकी वजह सिर्फ कृतिका ही है यदि कृतिका मुझे समय पर समझ जाती तो शायद हम दोनों को अलग नहीं होना पड़ता। कृतिका की सहेली संगीता मुझसे बहुत ज्यादा प्रभावित हो गई, उसके और मेरे बीच में रिलेशन बहुत अच्छा चलने लगा जिस वजह से कृतिका से मेरा ब्रेकअप हो गया लेकिन अब मैं अपने ब्रेकअप से खुश हूं और मैं संगीता के साथ बहुत अच्छा समय बिताता हूं जिससे कि मेरे जीवन में बहुत बदलाव भी आया है यह बदलाव सिर्फ संगीता की वजह से ही संभव हो पाया। कृतिका तो मेरी हर एक बात को सिर्फ गलत मतलब में लेकर जाती थी, वह मुझसे सिर्फ झगड़ा ही करती थी इस वजह से मैं बहुत परेशान और तनाव में भी हो गया था, संगीता और मेरे बीच नजदीकिया एक टूर के दौरान बड़ी। मुझे बहुत खुशी हुई जब संगीता से मेरा रिलेशन बढ़ने लगा क्योंकि वह हर एक मेरी छोटी-बड़ी चीजों का ख्याल रखती है और मुझे बहुत समझाया करती मेरे चेहरे पर जो मुस्कान है वह सिर्फ संगीता की वजह से ही संभव हो पाई है मैं आपको यह बताता हूं कि किस प्रकार से मेरे जीवन में संगीता आई।

मैं और मेरी गर्लफ्रेंड कृतिका का रिलेशन पिछले 3 सालों से चल रहा था लेकिन अब वह हर बात में मुझसे झगड़ा करती रहती है और छोटी-छोटी बातों को भी बहुत बड़ा बना देती है मैंने कृतिका के साथ शादी करने का फैसला किया था लेकिन मुझे लगने लगा था कि शायद वह मेरे लिए ठीक नहीं है और ना ही हम दोनों एक दूसरे को अच्छे से समझ पा रहे हैं। मैंने अपने रिलेशन को बचाने की बहुत कोशिश की और उसके लिए मैंने एक बार एक टूर पर जाने की भी सोची, मेरा दोस्त राघव भी मेरे साथ था कृतिका के साथ भी उसकी दो तीन सहेलियां आई हुई थी।

हम लोग घूमने के लिए दिल्ली से आगरा गए, मैं अपनी कार में ही उन लोगों को अपने साथ लेकर गया, कृतिका की एक सहेली जिसका नाम संगीता है, मेरी संगीता से सिर्फ फोन पर ही बात हुई थी और जब कभी कृतिका और मेरे बीच में झगड़ा होता तो संगीता ही हम दोनों के बीच झगड़े को सुलझाती थी, संगीता बड़ी ही समझदार लड़की है और उस टूर में वह भी हमारे साथ थी। आधे रास्ते तक मैंने ही कार ड्राइव किया और मैंने अपने दोस्त राघव से कहा कि तुम अब यहां से गाड़ी चलाओ, आधे रास्ते से राघव गाड़ी ड्राइव करने लगा मैं कृतिका के साथ पीछे वाली सीट में बैठ गया, कृतिका की एक सहेली राघव के साथ आगे बैठ गई, राघव गाड़ी ड्राइव कर रहा था, मैं कृतिका के साथ बात कर रहा था क्योंकि काफी समय बाद मुझे कृतिका के साथ समय बिताने का मौका मिल रहा था कृतिका और मैं अपने पुराने दिन याद कर रहे थे की किस प्रकार से हम लोग पहली बार मिले थे और कैसे हम लोग साथ में घूमने गए थे यह सब हम लोग याद कर रहे थे लेकिन तभी बीच में एक बात आ गई जिससे की कृतिका गुस्सा हो गई और जब वह गुस्सा हुई तो वह मुझसे झगड़ा करने लगी, मुझे समझ नहीं आ रहा था कि आखिर कार कृतिका को अचानक से क्या हो गया इस बार मैं गलत नहीं था तो संगीता ने भी मेरा साथ दिया और कहने लगी तुम विराज के साथ गलत कर रही हो उसके साथ ऐसे झगड़ा मत करो लेकिन कृतिका कहां किसकी सुनने वाली थी उसने किसी की भी बात नहीं मानी और मुझसे झगड़ा करती रही, मैंने उससे कुछ देर बात बंद कर दी और जब हम लोग आगरा पहुंचे तो हम सब लोग ताजमहल के पास पहुंचकर तस्वीर खिंचा रहे थे हम लोग उसी दिन घर वापस लौटने वाले थे लेकिन हमें आगरा में काफी देर हो गई जिस वजह से हमें उस दिन आगरा में ही रुकना पड़ा।

मैंने जब संगीता से अपने और कृतिका के रिलेशन के बारे में बात की तो वह कहने लगी देखो विराज अब तुम्हें ही इस रिलेशन को ठीक करना है नहीं तो तुम दोनों एक दूसरे के साथ ज्यादा समय तक नहीं रह पाओगे। मुझे भी पता था कि कृतिका को खुश रख पाना बहुत मुश्किल है मैं तो सिर्फ उस रिश्ते को बचाने की कोशिश कर रहा था जो आखिरकार हमारे बीच में था ही नहीं और वह खत्म होने वाला था, मैंने कृतिका से बात की तो कृतिका मुझे कहने लगी मुझे तुमसे बात नहीं करनी, हम लोग जिस होटल में रुके थे वहां पर मैंने दो रूम ले लिए थे एक रूम में मैं और राघव थे राघव कहने लगा मैं तो घूमने के लिए बाहर जा रहा हूं तुम्हें यहीं रुकना है तो तुम रुको। मैं अकेले ही रूम में बैठा हुआ था तभी मेरे पास संगीत आई मैंने संगीता से कहा देखो संगीता तुम कृतिका को समझाने की कोशिश करो वह मेरी कुछ भी बात नहीं सुनती और ना ही मेरी कोई बात मानती है, वह मुझे कहने लगी तुम्हें ही कृतिका को समझाना चाहिए लेकिन कृतिका और मेरे बीच में पहले जैसा कोई रिलेशन था ही नहीं, मैं संगीता की बातों से बहुत प्रभावित था। मैंने उससे कहा देखो संगीता तुम कितनी समझदार हो और एक कृतिका है जो कि बेमतलब के झगड़ा करती रहती है मैंने तो उससे शादी के बारे में भी सोचा था लेकिन यदि हम दोनों के बीच ऐसे ही झगड़े होते रहे तो मुझे नहीं लगता कि हम दोनों एक दूसरे से शादी कर पाएंगे।

संगीता मुझे कहने लगी देखो विराज तुम कृतिका से प्रेम करते हो उसे तुम्हें किसी भी हाल में मनाना है। मैंने संगीता से कहा लेकिन मुझे उससे उम्मीद नहीं बची है संगीता मेरे कंधे पर हाथ रखकर कहने लगी कोई बात नहीं मैं तुम्हारे साथ हूं, जब उसने मुझे यह बात कही तो मैंने संगीता से कहा कि क्या वाकई में तुम मेरे साथ हो। वह कहने लगी हां मैं तुम्हारे साथ हूं और हमेशा तुम्हारे साथ रहूंगी। मैंने उससे कहा सोच लो एक बार मुझसे यह बात कह दी तो मैं तुम्हें अपना मान लूंगा। वह कहने लगी हां मैं तुम्हारा साथ हमेशा दूंगी मैंने उस दिन संगीता को गले लगा लिया। संगीता को थोड़ा अजीब सा जरूर लग रहा था लेकिन उसे यह बात अच्छे से पता है कि मैं दिल का बहुत अच्छा हूं और शायद इसीलिए उस दिन हम दोनों के बीच शारीरिक संबंध बन गए। मैंने संगीता के बदन को अपने हाथ से निहारना शुरू किया उसके बदन की गर्मी से मैं बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गया मै बड़े अच्छे से उसके बदन को निहारने लगा। मैं जब उसके बदन को अपने हाथों से दबाता तो उसके बदन की गर्मी बढ़ती जा रही थी मैंने उसके होठों को अपने होठों में लेकर चूमना शुरू किया उसके गुलाब जैसे होठों को जब मैं अपने हांठो में लेकर चूसता तो वह कहती तुम्हारे साथ तो किस करने में भी बड़ा मजा आ रहा है। मैंने संगीता से कहा मेरे और कृतिका के बीच ना जाने कितनी बार संबंध बने लेकिन उसके बावजूद भी वह कभी मुझे समझ ही नहीं पाई लेकिन तुम्हारे साथ मुझे किस करके भी ऐसा लग रहा है जैसे तुम मेरे लिए ही बनी हो यह कहते हुए मैंने उसके होठों को होठों से भीचना शुरू कर दिया उसके होठों से खून निकलने लगा था मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था।

मैंने जब उसके स्तन को अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू किया तो उसके स्तनों से दूध निकल रहा था मुझे उसके स्तनों का रसपान करने में बड़ा आनंद आता मैंने काफी देर तक उसके स्तनों का रसपान किया, जब उसके स्तनों को मैंने अच्छी तरीके से चूस लिया तो उसके बाद मैंने उसकी चूत को भी अपने जीभ से चाटा। उसकी चूत चाटने में बड़ा मजा आ रहा था उसकी चूत मैने इतनी देर तक चाटी कि उसकी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया। जब मैंने उसकी चूत के अंदर अपने लंड को प्रवेश करवाया तो उसके मुंह से चिल्लाने की आवाज निकल पडी वह अपने मुंह से बड़ी तेज आवाज मे सिसकिया ले रही थी उसकी मादक आवाज मेरे कानों में जाती तो मेरी उत्तेजना दो गुना ज्यादा बढ़ जाती।

मैंने उसके पैर चौड़े करते हुए उसकी चूत पर बड़ी तेजी से प्रहार करना शुरु किया मैं उसकी चूत तेजी से मार रहा था। मैंने काफी देर तक उसे अपने नीचे लेटा कर चोदा लेकिन जब संगीता ने मुझसे कहा कि मुझे तुम्हारे ऊपर आना है। वह जब मेरे ऊपर आई तो उसने मेरे लंड को अपनी चूत में ले लिया और बड़े अच्छे से वह अपनी चूतडो को ऊपर नीचे करने लगी। वह अपनी चूतड़ों को बड़ी तेज गति से ऊपर नीचे करती जाती जिससे कि मेरे अंदर जोश और भी ज्यादा बढ़ता जाता मुझे उसे धक्के देने में बड़ा मजा आ रहा था जिस प्रकार से मैं उसे चोद रहा था उसे भी मजा आता लेकिन मैं ज्यादा समय तक उसकी चूत की गर्मी को बर्दाश्त ना कर पाया। मैंने अपने लंड को बाहर निकालते हुए संगीता से कहा तुम अपने मुंह को खोल लो उसने जब अपने मुंह को खोला तो मैंने अपने वीर्य की तेज धार उसके मुंह में डाल दी। मेरे वीर्य की तेजधार उसके मुंह के अंदर गई तो उसने वह सब अपने अंदर ही निगल लिया जब उसने मेरे वीर्य को अपने अंदर निगला तो मुझे बहुत अच्छा महसूस हुआ। मुझे तो ऐसा लगा ही नहीं कि जैसे मैंने संगीता के साथ पहली बार सेक्स किया हो। उस टूर के बाद मेरे और कृतिका के रिश्ते में तो खटास आ ही चुकी थी लेकिन मेरे जीवन में संगीता आ चुकी थी जबसे संगीता मेरे जीवन में आई है तब से कृतिका ने मेरा साथ छोड़ दिया है और अब वह संगीता से भी बात नहीं करती लेकिन मुझे उससे कोई फर्क नहीं पड़ता। वह हमेशा मेरा साथ देती है मुझे उसने कभी भी कृतिका की कमी महसूस नहीं होने दी हालांकि उसे भी कृतिका के रूप में अपनी अच्छी सहेली को खोना पड़ा पर वह मेरे साथ बहुत खुश है। परंतु मैंने उसे कभी भी एहसास नहीं होने दिया कि उसकी वजह से हम दोनों के बीच में दरार आई मैं संगीता से बहुत ज्यादा प्रेम करता हूं और उससे हमेशा प्रेम करता रहूंगा संगीता से मैंने यह कमिटमेंट किया है, मैं उसका साथ कभी नहीं छोडूंगा।


Comments are closed.



Online porn video at mobile phone


baap beti chudai ki kahanifree indian sex comicsgay kahani maratinew sexi kahaniभईया कि रखेल भावी हिन्दी xuxx vedonew sexy chudai ki kahanicgudai.stori.paj.191samuhikchudaibahanbaap se chudai36 साल की कामवाली की चुदाईchudai bhabhi ki in hindichudai kuwari chut kichut aur lund storiesgand marvaihindi chudai ki kahaniya in hindi fontdada boudi chodawww hinde sax comछोटी बहन को जन्मदिन पर चोदाmama mami bahanja group sex hot story hindiबुढिया ने गाड मरबाईXxxx नंनद और भाभी कि कहानीmoti bhabhi ki chootantervasnamast kuwari chutdasi anti sexmastram ki nayi kahani in hindimarathi kamuk kathaमां बेटे की चुदाई वीडियो व कहानियांmere balatkar ki kahaniGUJRATI PARIVARSEXindia sexstoriesiss hindi sex storieschudai ki batein hindi mehindi bhai behan chudai storyGay sex story hindi first taimeaapis..kicudaimaa beta chudai story in hindimote gand bale anutey ke sax kesi kareMom ki badi gand jabardast itam sex storrrypari ki chudaiसेक्स स्टोरी बहन चुड़ै रूपएSEX STORYçhut rahi pukar chodo lund mere yaarrandi chudai ki kahaniantarvasna family chudaijism ki aagSex Karha pasi padosanhindisexkahanijungle me mangal sexantarwasna sexcy novol hindiaunty hindi sex storypatipatnisexstoryGareeb.tai.ke.chudi.ke.kahaniya.चोदु अब्बु की कहानीmaa chut chudai psex poto storiy comISHA.KA.XXX.KAHANIapni bhabhikuwari chut chudai kahaniMom and son eke dam chudaai video ammi ki Salwar me chedantarvadsna videoneetu ki chudai free sex storyjija sali rima antarvasnahindi saxe storehindi marwadi sexwww.kuvari ladaki sex storie marathixxx kahanichachi ka saree utha kay choda storyland and chut ki storyबाप बेटी चूयjabrdast sex stories in sms50साल की मालकिन की गाड मारीcousine ko choda