पल्लू सरका के दूध दिखा दो

Kamukta, hindi sex story, antarvasna:

Pallu sarka ke doodh dikha do अरविंद मुझे कहने लगे कि कंचन आज बच्चे नहीं दिखाई दे रहे हैं मैंने अरविंद से कहा बच्चे आज सुबह ही नानी के घर चले गए थे। अरविंद कहने लगे कि तुमने मुझे कुछ बताया भी नहीं मैंने उनसे कहा भैया आज सुबह यहां आए थे और कहने लगे कि मैं बच्चों को अपने साथ लेकर जा रहा हूं। अरविंद मुझसे पूछने लगे कि भैया कितने बजे आए थे तो मैंने अरविंद को बताया कि भैया तो सुबह ही आ गए थे। अरविंद मुझे कहने लगे कि तुमने मुझे सुबह क्यों नहीं उठाया तो मैंने अरविंद से कहा आप सुबह सो रहे थे मुझे लगा आप को उठाना ठीक नहीं रहेगा। मैंने अरविंद से कहा आप तैयार हो जाइए मैं आपके लिए नाश्ता लगा देती हूं आरविंद कहने लगे ठीक है मैं तैयार हो जाता हूं तुम मेरे लिए नाश्ता लगा देना। मैं अब रसोई में चली गई और अरविंद के लिए नाश्ता बनाने लगी घर में बहुत ही शांति थी क्योंकि बच्चे भैया के साथ चले गए थे मेरा मायका मेरे ससुराल से कुछ दूरी पर ही है।

हमारे परिवार एक दूसरे के परिवार को पहले से ही जानते थे इसलिए हम लोगों की शादी में ज्यादा परेशानी नहीं हुई हम दोनों के परिवार की सहमति से हम दोनों ने शादी कर ली। मैं भी अरविंद को पहले एक दो बार मिल चुकी थी हमारी शादी को 10 वर्ष होने वाले हैं इन 10 वर्षों में मैंने काफी कुछ बदलते हुए देखा। अरविंद भी पहले से ज्यादा बदल चुके हैं वह अब पहले जैसे बिल्कुल भी नहीं रह गए हैं अरविंद कभी कभी मुझ पर गुस्सा भी हो जाया करते हैं लेकिन यह छोटी-छोटी नोक झोंक तो अक्सर हर परिवार के बीच में होती रहती है। अरविंद और मेरे बीच में भी कभी कबार झगड़े हो जाते हैं  परंतु उसके बाद सब कुछ ठीक हो जाता है। मैं अरविंद के लिए नाश्ता बना चुकी थी और अरविंद नाश्ता करने के लिए आए तो वह मुझे कहने लगे कि तुमने मेरे लिए नाश्ता बना दिया है तो मैंने अरविंद से कहा हां मैंने तुम्हारे लिए नाश्ता बना दिया है आप नाश्ता कर लीजिए। अरविंद ने नाश्ता कर लिया था और उसके बाद वह मुझे कहने लगे कि मैं अपने ऑफिस के लिए निकल रहा हूं हो सकता है आज आने में देर हो जाए। मैंने अरविंद से कहा क्या कोई जरूरी काम है तो वह कहने लगे कि जरूरी काम तो नहीं है लेकिन मुझे अपने ऑफिस के एक दोस्त के घर पर जाना है मैंने उनसे कहा ठीक है।

बच्चे मां के पास थे और अरविंद भी ऑफिस चले गए थे मैं घर की साफ सफाई का काम करने लगी और जब मैं फ्री हुई तो मैंने सोचा मैं भी मां के पास चली जाती हूं और फिर मैं मां के पास चली गई। जब मैं मां के पास गई तो बच्चे खेल रहे थे मैंने बच्चों से कहा तुम लोग यहां भी शरारत कर रहे हो तो वह कहने लगे कि मम्मी हमें खेलने दो। मेरी मां भी कहने लगी बच्चों को खेलने दो अभी उनकी उम्र ही क्या है मैंने मां से कहा यह लोग बहुत बिगड़ रहे हैं तो मां कहने लगी कोई बात नहीं बेटा बचपन में सब लोग ऐसे ही होते हैं धीरे-धीरे समय के साथ सब ठीक हो जाता है। मैं और मां साथ में बैठ कर बात कर रहे थे मैंने मां से कहा मां भाभी कहीं दिखाई नहीं दे रही है मां कहने लगी कि वह राघव के साथ गई है। मैंने मां से कहा भैया और भाभी क्या कुछ काम से गए हुए हैं तो मां कहने लगी हां वह लोग काम से गये हुए है। मैंने मां से पूछा भैया और भाभी कब तक लौटेंगे तो मां कहने लगी उन्हें तो आने में शाम हो जाएगी। मैं भी घर में अकेली थी इसलिए मैं मां से मिलने के लिए आ गई मां और मैं साथ में बैठकर बात कर ही रहे थे कि तभी पड़ोस में रहने वाली शांता आंटी आ गई। शांता आंटी बातों को बढ़ा चढ़ाकर कहने में बहुत यकीन रखती हैं और जब वह आई तो वह मुझसे कहने लगी कि कंचन तुम कैसी हो मैंने उन्हें कहा आंटी मैं तो ठीक हूं आप बताइए आप कैसी हैं। वह कहने लगी मैं भी ठीक हूं, मैंने आंटी से कहा लेकिन आंटी आपके चेहरे को देखकर तो लग नहीं रहा कि आप ठीक हैं वह कहने लगी नहीं ऐसा तो कुछ भी नहीं है। उन्होंने मुझे कहा हां आजकल तबीयत ठीक नहीं है इस वजह से तुम्हें लग रहा होगा मैंने आंटी से कहा बताइए और घर में सब कुछ ठीक है। वह कहने लगे कि हां घर में तो सब कुछ ठीक है सोचा तुम्हारी मम्मी से आज मिल आती हूं काफी दिन हो गए थे जब दीदी से मिली नहीं थी। मम्मी और शांता आंटी आपस में बात कर रहे थे मैंने शांता आंटी से पूछा कि आंटी आजकल भैया कहां है।

वह कहने लगी कि वह तो विलायत में एक अच्छी नौकरी कर रहा है और कुछ महीने पहले ही तो वह गया था। आंटी ने भैया के बारे में बढ़ा चढ़ाकर बात करनी शुरू की वह मुझे कहने लगे कि तुम यहां कब आई मैंने उन्हें बताया कि आंटी मैं तो अभी ही थोड़ी देर पहले आई हूं। आंटी और मम्मी बात कर रहे थे मैं बच्चों को कहने लगी की तुम आराम कर लो बच्चे भी अब सोने की तैयारी में थे और वह थोड़ी देर बाद सो गए। जब बच्चे सो गए थे तो उसके बाद मैंने मां से कहा मां मैं घर जा रही हूं मां कहने लगी बेटा तुम घर जाकर क्या करोगी अभी तो अरविंद भी ऑफिस से नहीं आए होंगे। मैंने मां से कहा हां मां अरविंद तो अभी ऑफिस से नहीं आए होंगे लेकिन मैं सोच रही हूं कि घर चली जाती हूं और बच्चों को भी घर लेकर जाती हूं। मां कहने लगी ठीक है बेटा तुम देख लो। मैं बच्चों को अपने साथ घर ले आई और मैंने उन्हें कहा तुम बिल्कुल भी शरारत मत करना वह  कंप्यूटर में गेम खेलने में मस्त हो चुके थे मैंने अरविंद को फोन किया तो वह कहने लगे कंचन मुझे अभी ऑफिस से निकलने में थोड़ा टाइम हो जाएगा। मैंने अरविंद से कहा क्या आप अपने दोस्त के घर जा रहे हैं तो वह कहने लगे हां वहां तो मैं जाऊंगा ही मैंने तुम्हें कहा नहीं था कि मुझे आने में लेट हो जाएगी। अरविंद देर रात घर लौटे तो मैंने उन्हें कहा आपने खाना तो खा लिया है अरविंद कहने लगे हां मैंने खाना खा लिया है अरविंद कहने लगे कि मुझे नींद आ रही है।

अरविंद सो चुके थे अरविंद के हाव भाव बदलने लगे थे वह बिल्कुल भी पहले जैसे नहीं रह गए थे हम दोनों के बीच शायद अब समय का अभाव था कि हम दोनों एक दूसरे को बिल्कुल भी समय नहीं दे पाते थे। मैंने अरविंद से इस बारे में बात की और कहा हम लोगों को एक दूसरे को समय देना चाहिए। अरविंद कहने लगे कंचन तुम्हें तो मालूम है ना की जिम्मेदारियां कितनी बढ़ चुकी है और घर के खर्चे भी कम नहीं है। अरविंद ने जब मुझे यह कहा तो मैंने अरविंद से कहा हां कह तो आप ठीक रहे हैं लेकिन फिर भी हम दोनों को एक दूसरे के लिए समय तो निकालना चाहिए। अरविंद कहने लगे ठीक है कंचन मैं देखता हूं लेकिन हम दोनों एक दूसरे के लिए समय ही नहीं निकाल पाए। हम दोनों एक दूसरे के लिए समय नहीं निकाल पा रहे थे और इस बात से मुझे कई बार बुरा भी लगता था कि अरविंद मेरे लिए समय नहीं निकाल पा रहे हैं। हमारे पड़ोस में मिश्रा जी रहते हैं वह बड़े ही हंसमुख और अच्छे व्यक्ति हैं उनसे मेरी मुलाकात भी होती रहती है। जब उनसे मेरी मुलाकात होती तो मिश्रा जी मुझे कहने लगे भाभी जी आप कैसी हैं वह मेरे हाल चाल पूछते रहते थे। मैं अपने बदन को मिश्रा जी को दिखाने लगी और अपने आपको ना रोक सकी। वह मुझ पर डोरे डालने लगे मुझे भी अपनी इच्छाओं को पूरा करवाना था तो मिश्रा जी को मैंने घर पर बुला लिया। जब वह घर पर आए तो उन्होंने मेरा हाथ थाम लिया और कहने लगे भाभी जी आप बड़ी सुंदर है वह मेरी सुंदरता की तारीफ कर रहे थे। जब उन्होंने मुझे अपनी बाहों में लिया तो वह मेरी गांड पर अपने हाथ को लगाने लगे और उन्होंने मेरे होंठों को चूमना शुरू कर दिया।

मुझे बड़ा अच्छा लग रहा था जिस प्रकार से वह मेरे होठों का रसपान कर रहे थे काफी देर ऐसा करने के बाद जब वह पूरी तरीके से उत्तेजित हो गए तो उन्होंने मुझे कहा अब मुझसे बिल्कुल भी रहा नहीं जा रहा है। मैंने उनसे कहा मैं भी नहीं रह पा रही हूं मैंने उनकी पेंट की चैन को खोलते हुए लंड को अपने हाथ में लिया और उसे मै अच्छे से हिलाने लगी जिस प्रकार से मैं उनके लंड को हिला रही थी उससे उनके चेहरे पर खुशी साफ दिखाई दे रही थी। मैंने उनके मोटे लंड को अपने मुंह के अंदर समाया तो वह पूरी तरीके से उत्तेजित हो गए और मुझे कहने लगे कि अब मैं रह नहीं पाऊंगा। मैंने उन्हें कहा रह तो मैं भी नहीं पा रही हूं मैंने उनके मोटे लंड से पानी भी बाहर निकाल कर रख दिया था उन्होंने मेरे बदन से कपड़े उतारकर मेरी काली रंग की ब्रा को उतारा और वह मेरे स्तनों का रसपान करने लगे। मुझे अच्छा लगने लगा काफी देर ऐसा करने के बाद उन्होंने मेरे स्तनों को अपने मुंह के अंदर लेकर अच्छे से चूसना शुरू किया तो वह कहने लगे कि आपके स्तनों से दूध निकल रहा है।

मैंने कहा आपने मेरे दूध को बाहर निकल दिया है उन्होंने अपने मोटे लंड को मेरी चूत पर सटाते हुए अंदर की तरफ को धक्का देना शुरू किया तो उनका लंड धीरे धीरे मेरे योनि के अंदर प्रवेश हो चुका था मेरे मुंह से बड़ी तेज चीख निकली और मै अपने पैरों को चौड़ा करने लगी जिससे कि उनका मोटा लंड आसानी से मेरी चूत मे चला गया मुझे बहुत ही खुशी हो रही थी। मेरी चूत का वह मजा ले रहे थे काफी देर तक उन्होने ऐसा ही किया, जब उनका माल बाहर की तरफ को निकलने लगा तो उन्होंने मुझे कहा भाभी जी अब मेरा वीर्य गिरने वाला है। उनका वीर्य मेरी योनि में गिरते ही उन्होंने मेरे होठों को चूम लिया और मुझे कहने लगे कि आप मेरे लंड को चूसो, मैने उनके लंड को चूसा वह मेरी चूत मारकर बहुत ही ज्यादा खुश थे और मुझे भी बहुत खुशी थी।


Comments are closed.



Online porn video at mobile phone


chudai kitabblatkar ki Hindi kahaniyahantai sexfree saxy story ma ke sath biwi kochoda.comसिरीप दिदी कि चूदाइ कि काहानी dehati sexihindi sex story sexbf kahani ledi afeesar ne naikr se chudayawww.reail Indian deshi jabrjashti kapde nikal ke choda for Rackdurg ki antarvasnasaas ki chudai hindichodne ke photoHindi sex kahanihindi randi chudai videopalang tod chudaisixdakunon veg story in hindi languagehole me cudae ke khame hende mekuwari chudai kahaniindian hindi chudai storyaunty sex storiessasur ne bahu ki cudai kidesi incest story in hindianokhi chudaidesi sex khaniyakhushbu ko chodagali se kahanisex story hindu ladaki muslim ke liye kuchh bhi kar sakti haibhai bhen ki garam cuday ki khani gujrati maसेक्सी वीडियो हिंदी फ्री डाउनलोड हिंदी ब्रिटानिया सेक्सी फ्री साइट हिंदी कहानियां वीडियोxxx sex ki mnornjn jankari kahanimaa beti sex storybahu ki chootsex stories in marathi fontchodnasix kahaniyachoot bazarथुक मम्मे चुदाई मुठhindi suhagrat kahaniबसकी भीडमे स्पर्ष देसी विडस्bahan ki chudai antarvasnafuck ki kahanichut mein landचुदाई की दास्तान हिंदी मेंantarvasna hindi story pdfbivi ki gand marichuchi chusnasex storyhindi sxi storidesi bur chudai videohindi crezy pariwar chudai kahanirupali ki chutXxx भाई बहन देशी बीडायो 11मिनटShaadi.Ke.Baad.Devar.Se.Chudai.Desi.Story.Hindi.App.Comchut ki banawatlatest kahani chudai kiSEXYsamuhik KAHANI HINDIhot naukranirandi aunty sexbete se chudai ki storygandu sex bidoes dot com nigrobhabhi ko lal bra meih dekhiantarvasna kamukta hindi storyJawan kam wali se majay xxxवाराणसीचुदाईkhatarnak chudaihindi sex storyKAMUKTA BIHARbhayankar chudairisto me chudai storydard bhari chudai kahanigaon me sexगोदाम की चुदाई की कहानियांchut chudai kahani hindichut chudai ki kahani hindi meचाची और बेटे की चुदाई सेक्स स्टोरीaurat ki kutte se chudaibhabhi ke sat dud phbr chachi xxx hindi kahanimaa ki chudai ki story in hindiinjection to bhabhi storyhot bhabhi storywww kamukta.com cachi buaa babhi bahan aur moshy ki cudaibehan ko choda story in hindihindi sexi kahani aavara sandPdai ke bhane bhen ko chodabahu ki chuhi chusai ki hindi kahanikaali ladki ko chodaantarvasna hindi sex story in hindi