पहला सेक्स का अनुभव ४

मैने कपते हुवे केक कटा. इधर मैं केक के टुकड़े कर रही थी उधर चाचा मेरी चुत मे लंड को धकेल रहे थे. मेरी चुत से पानी रिस रहा था, ओर मेरी चुत बहुत गीली हो गयी थी . चाचा को लंड अंदर बाहर करने मे बहुत आसानी हो रही थी. मैं महसूस कर रही थी, की अब चाचा का लगभग आध लंड मेरी चुत के अंदर गुस चक्का था. मेरी साँसे तेज हो गयी थी. चाचा का भी ऐसा ही हाल था. अब मुझे चुत मे लंड ओर अंदर जाने की वजह से थोड़ा दर्द होने लगा. शायद चाचा का लंड मेरी चुत की सीएल पर था. मेरी तो साँस ही रुकने लगी. ऐसा लग रहा था की यदि अब चाचा ने एक ज़ोर का जटका मार दिया तो उनका लंड मेरी चुत की सीएल तोड़ कर जड़ तक गुस जाएगा. यह एक अजीब सा दर्द भरा एहसास था. मन कर भी रहा था की आज आपने 18 बर्तडे पर सीएल तुद्वा ही लूँ, और दर्द ओर दर भी था.

हम डन ही ऐसे खड़े थे और शो कर रहे थे की जसीए हमे चुत मे गुस्से हुए लंड का पता ना हो. हम डन ही इस बात को इग्नोर करते हुए उणजान बनने की आक्टिंग कर रहे थे. चाचा ने मुझे एक टुकड़ा खिलाया तो मैं भी उन्हे देने लगी ओर एकडुम से सीधे खरी हो गयी ओर उनकी तरफ मूह कर लिया . सहायद मैं चुत मे हो रहे दर्द से, जो की सीएल पर लंड के टकराने से हो रहा था, दर गयी थी . मेरे एक दूं खड़े होने से उनका लंड मेरी चुत से “ पक” की आवाज़ कराता हुआ बाहर निकल गया. चाचा का लंड , अब मुझे सॉफ दिखाई दे रहा था क्योंकि मेरा मूह उनकी ओर था . ओर उनके लंड पर से कपड़ा भी हट चक्का था. चाचा का लंड देख कर तो जैसे मेरी साँस ही रुक गयी. मैने पहले भी उनका लंड देखा था पर आज तो वो बहुत हे लंबा ओर मोटा लग रहा था. शायद मेरी कलाई से भी मोटा था ओर लगबघ 8-9 इंच लंबा था.

हू इक दम टन कर लोहे की रोड जैसे लग रहा था. चाचा ने फिर से इस शॉन को इग्नोर करना की आक्टिंग करते हुए कहा” क्या हुआ बिटिया,” मैने कहा “ चाचा मेरी आपकी तरफ पीठ थी तो मैं आपके मूह मे केक कैसे डाल सकते थी, इस लिए आप की तरफ़ घूम गयी हो.” ओर मैं चाचा के मूह मे केक डालने लगी. चाचा ने केक ना लिया ओर हंसते हुए बोले, “ये क्या नीता, मैं तुम्हे हमेशा आपनी गोद मे बैठा कर खिलाया हू. तो आज भी तुझे आपनी गोद मे ही बैठा कर ख़ौँगा,” और वो दूसरी ओर जा कर बेड पर पैरो को लटका कर बैठ गे. मैं एक बड़ा सा टुकरा काट कर चाचा के तरफ पलटी और जो मंज़र देखा तो मस्त होकर सोचने लगी, लगता है चाचा आज ही मेरा उद्घाटन कर देगे.

चाचा आपना लंड को झुका कर दोनो जाँघो के बीच दबा रखा था. जो कपड़ा अब तक चाचा के कमर मे लिपटा था उसे अब चाचा ने आपने जाँघो पर डाल दिया था. मैं समझ गई के चाचा को जब लंड नंगा करना हो तो ज़्यादा परेसानी ना होगी. ये सही समय था उनके लंड के खुल कर दर्शन का. मैं मुस्कुराते हुवे चाचा के सामने खड़ी हो कर जान बुझ कर बोली “ऊ चाचा आप तो इस तरह बैठे है अब मैं आप के गोद मे कैसे बैठुगी,” तो चाचा बोले, “आओ बताता हूँ” और मेरे बगल मे हाथ डाल कर उठाते हुवे बोले “मेरी प्यारी बिटिया मेरे सामने बैठेगी.”

मई तो जान ही रही थी के चाचा मुझे कैसे बीतायगे. मुझे चाचा उठा कर आपने उपर लाने लगे तो मैं जान बुझ कर चाचा के जाँघ पर वाला कपड़ा को एक पैर के अंगूठा मे फसा दिया. मैं टॅंगो को चाचा के कमर के साइड मे फैलाई तो वो कपड़ा एकदम से अलग हो गया. अब चाचा पूरा नंगा थे.

मई तट से आपना नंगा चूटर चाचा के जाँघो पर रख कर बैठ गई. चाचा के मुहन से मादक आवाज़ निकली “अयाया” मैं अंजन बनकर बोली “क्या हुवा चाचा क्या मैं बहुत भारी हू?” तो चाचा मिनी स्कर्ट के अंदर चूटर पर हाथ रख कर आपनी ओर पूरा सटा कर बोले “तुम तो फूल से भी हल्की हो,लाओ केक खिलाओ,”

मई उनकी गोद मे बैठी थी , पर मेरा पूरा ध्यान चाचा के लंड पर था जिसे चाचा ने आपने जाँघो मे छुपा रखा था. मेरे उनकी गोद मे बैठने के कारण उनका लंड मेरी चुत के मूह पर लग गया था. चाचा मेरी गालों पर हाथ फेराते हुए बोले “नीता अब तुम कुछ ही दीनो की मेहमान हो इस घर में,” मैं बोली, “वो कैसे चाचा,” तो चाचा बोले, “तू अब जवान हो गई है, कुछ दीनो के बाद तू शादी कर के आपने घर चली जायागी,” मैं चाचा से एक दम लिपट गई और रोने के अंदाज़ मे बोली, “ओह चाचा मैं आप को चोर कर कही नही जौंगी,” “अरे बेटी वो तेरे साथ आपना घर बसायगा,” मैं मचल कर बोली, “मई किसिके साथ घर नही बसाओगी,”

चाचा मेरी टॅंगो को, जो उनके कमर मे लिपटा था पाकर कर दोनो तरफ फैला दिया. मेरा चुत का मूह थोड़ा खुल गया और अंदर का पानी तपाक गया. उसके बाद चाचा मेरा चेहरा सामने कर मेरी माधोस आँखो मे झाँकने लगे. अचानक चाचा आपने झंगो को एक झटके मे फैलाया. मुझ पर तो बिजली गिर गया. मेरी गीली चुत पर लंड ने ठोकर मारा “ठप”और उसी पल चाचा बोले, “तो किसके साथ घर बसावगी नीता?” मैं गंगना गई और इसी अहसा में उछाल कर चाचा से चिपक कर और चुत को सिकोर कर बोली, “है चाचा आप के साथ,” एक तरह से चाचा को खुला निमंत्रण दे दिया.

मई इतना ग्रामा हो गई की चाचा को खुले सबदो मे कह दिया के मैं आप के साथ घर बसौंगी. पहले तो चाचा कुछ देर तक चुप रहे,फिर मेरी कमर मे हाथ डाल कर आपने जाँघ पर पीछे सरकया. “ऊवू, मार गयी” मेरी चुत लंड पर रगर मार कर गई. चाचा के लंड का सूपड़ा चुत के मुहन पर आगेया,तो चाचा आपना हाथ पेट पर लाकर चुत के तरफ लाए. मेरी चुत पर चाचा का हाथ आते ही मेरा मन खुश हो गया. चाचा मेरी चुत की फांको के भीच मे आपनी उंगली सहलाने लगे और मेरी चुत के दाने को दोनो उंगलियों के बीच मे दबाने लगे. मेरे तो जैसे रोम रोम मे आनंद की लेहायर डोड़ने लगी. चाचा की चुत मे गूम्थी हुई उंगली मेरे को मदहोश कर रही थी.

चिकनी चुत पा कर चाचा खुश होकर बोले, “मेरी बीत्या तो सच मच जवान हो गई है,” और हाथ हटा कर चेहरा को दोनो हाथो मे लेकर बोले, “हाँ इसी तरह सॉफ रखा करो. किसी चीज़ की ज़रूरात हो तो कहना. कैसे आपनी पेशाब वाली जगह को चिकना काइया. क्या राज़ेर से चिकना काइया?” चाचा अब खुल कर बोल रहे थे और मुझे भी उसका रहे थे. मैं फिर चाचा से लिपटना चाही तो चाचा रोक कर बोले, “इतना सरमाओगी तो घर कैसे बसावगी. बोलो आपने चुत को कैसे चिकना बनाई.” चाचा के मूह से पहली बार चुत शब्द निकला. चाचा मेरी चुत के होतो पर उंगली फेर कर बोले “ अरे बिटिया रानी बताओ ना रानी,”

ओह अब तो मुझे रानी कहने लगे. मैं आँखे बंद कर बोलना चाही तो गालो को ठप थापा कर बोले “आँख बंद कर लॉगी तो मैं चला ज़ाऊगा.” मैं डर गई मैं तो चाचा को एक पल के लिए भी छ्होरना नही चाहती थी,बोली “जी करीम से”, चाचा बोले, “कहा से लाई थी?” नज़र नीचे कर बोली,”जे,जे,जे.वो ना आप का बचा था उसी से,”

चाचा बोले, “ठीक काइया” और हाथो को गालों पर से नीचे चुचि के उपर ला कर कुछ टटोला और चॉक कर बल “अरे नीता ब्रा नही पहनी?” मैं बोली, “जी नही है मेरे पास” चाचा बोले, “ठीक है, कल ला दूँगा. ज़रा बटन को खोलो, नाप ले लूँगा नही तो पेंटी की तरह छोटी हो जयगी,” चाचा नंगी चुचि पर हाथ लगाने को बेठाब थे. मैं आपना चूटर आगी करते हुवे चुत को लंड पर सरका कर “अया चाचा”, बोलने लगी.

चाचा मेरी इस हरक़त से समझ गे की मैं उनके लंड पर चुत रगड़ना चाहती हू. तो चाचा कमर पकड़ कर मुझे फिर पीछे की तरफ कर दी और इस घिसाई का मज़ा मैं फिर पाई. चाचा बोले, “अरे खोलो ना,ब्रा नही लेना क्या, शर्मा क्यों रही हो , देखो तो मेरी भी तो उपर की बॉडी नंगी ही तो है, तुम भी आपनी कमीज़ उतार दो ताकि हम दोनो इक ब्राबार हो , और मैं तुम्हारी ब्रा का नाप भी ले लूँगा” . मैं आपने हाथ बटन पर लाई.


Comments are closed.



Online porn video at mobile phone


moti aunty ko chodaaunty ki chudai kisasu maa ki chudaiपुलिस वाली शीतल की चुत ओर गांड की जबरदसत चुदाई की सेकसी कहानीghar ki gand किराएदार की रंडी बीबीmuslim chutdesi aunty chutchudai ki mast kahani hindi mechut aur lodachudai ki kahani in hindi freemene chut marwaibahan ki chudai ki kahanisix khanichudai kahani hindi storyDil kholkar samuhik chudai ki kahaniyaporn kinnerbhai ne bahan ko jabardasti chodadesi suhagrat picki chudai ki kahanixxx ki kahaniwww sexy khani combiwi ki gaand marisasur ne bathroom me chodamami ki chudai ki storybhabhi ki chut hindichudai bete kibahan ki chodai ki kahanibehan ki choot videomera pehla sexsali ki chudai jija sedost ke biwi ki chudaisadhu baba ki chudaiदीदी का गोरा बदन ki chataayiantarvasnan storyfull suhagratchudai kahani papahawas sexy videoमआ छूट चुदाई की कहानी जनवरी 2019hindi sexy story comlatest sex stories in marathiचलती बस मे सील तोडी पापानेbhai behan ki real chudaicollege me chudaiShadime cudhai gay sex kahanihind sxe storebhai bahan chudai20 साल गांडू लडको का सेकसी कामुकता Wwwbhabhi ko maa banayadesi baba kuwari sexkhaniyaखैत मे सेकस कहानीsex devar bhabhihot indian sex storiesमेरी दीदी ने कडवा चाट क्सक्सक्स कहानी हिंदीjawan auntychudai story hotdesi chudai newholi mai bhabhi ki chudaitrain me behan ki chudaidesi baba chudaibhabhi maa ko chodanatin ko chodadesi kakiindian hot kahaniyamaa bete ki chudai ki dastanजवान लडकी कहानीwww.sexychutkahani.infree antarvasna kahaniAjibchudaigroup me gand marilatest indian sex storiesbaap se chudai ki kahani